Friday, July 25, 2008

तेरे चेहरे पे, एक खामोशी नज़र आती है...



आवाज़ पर संगीत के दूसरे सत्र के, चौथे गीत का विश्व व्यापी उदघाटन आज.
संगीत प्रेमियो,
इस शुक्रवार, बारी है एक और नए गीत की, और एक बार फ़िर संगीत पटल पर दस्तक दे रहे हैं एक और युवा संगीतकार अनुरूप, जो अपने साथ लेकर आए हैं, ग़ज़ल-गायन में तेज़ी से अपनी उपस्थिति दर्ज कराती एक आवाज़ निशांत अक्षर . ग़ज़लकार है युग्म के छायाचित्रकार कवि मनुज मेहता.
"पहला सुर" की दो ग़ज़लों के कलमकार, निखिल आनंद गिरि का आल इंडिया रेडियो पर साक्षात्कार सुनकर, अनुरूप ने युग्म से जुड़ने की इच्छा जताई और शुरू हुआ संगीत का एक नया सिलसिला. मनुज के बोल और निशांत से स्वर मिलें तो बनी, नए सत्र की यह पहली ग़ज़ल -"तेरे चेहरे पे". तो दोस्तो, आनंद लीजिये इस ताजातरीन प्रस्तुति का, और अपनी मूल्यवान टिप्पणियों से इस नई टीम का मार्गदर्शन / प्रोत्साहन करें.

ग़ज़ल को सुनने के लिए नीचे के प्लेयर पर क्लिक करें -



Hind Yugm, once again proudly present another, very young ( just 18 yrs old ) and talented composer, Anuroop from New Delhi, for whom composing ghazal is just natural, this ghazal here has been made keeping in mind the intricacies of a beloved away from his loved one due to some mistake which had taken place in their life. Penned by Maunj Mehta, and rendered by a very talented upcoming ghazal singer Nishant Akshar, enjoy this very first ghazal of this new season, and do leave your valuable comments, and help this new team to perform even better in the coming assignments.

To listen to this ghazal, click on the player below -



ग़ज़ल के बोल -

तेरे चेहरे पे, एक खामोशी नज़र आती है,
जिंदगी और भी, यास अफ्रीं नज़र आती है,

जितना भी रूठता हूँ जिंदगी से मैं,
उतना ही ये मुझे मनाती नज़र आती है.

तुम्ही बताओ कहाँ ढूँढू, किसी आगाह को,
हर तरफ़ मुझको, गर्द -ऐ-राह नज़र आती है.

LYRICS -

Tere chehre pe ek khamoshi nazar aati hai,
zindagi aur bhi *yaas aafreen nazar aati hai.


Jitna bhi ruthta hoon zindagi se main,
utna hi yeh, mujhey manati nazar aati hai.



tumhi batao, kahan dhundoon kisi *aagah ko,
har taraf mujhko gard-e-raah hi nazar aati hai.


*Yaas Aafreen- Na-umeed se bhari hui
*Aagah- Friend/ loved one

चित्र- अनुरूप (ऊपर), निशांत अक्षर (मध्य) और मनुज मेहता (नीचे)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंकों से डाऊनलोड कर लें (ऑडियो फ़ाइल तीन अलग-अलग फ़ॉरमेट में है, अपनी सुविधानुसार कोई एक फ़ॉरमेट चुनें)




VBR MP364Kbps MP3Ogg Vorbis


SONG # 04, SEASON # 02, " Tere Chehare Pe ", opened on 25/07/2008 on Awaaz, Hind Yugm.
Music @ Hind Yugm, where music is a passion

फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

31 श्रोताओं का कहना है :

janmejay का कहना है कि -

bahut khoob! badhai! bahut sundar ban para hai...gazal jaisi honi chahiye waisi hai.bahut khoob!

gazal ki dhun kuchh jyada hi inspired hai halanki..sun'ne walon ko kuchh aur bhi gazlen yaad aa jayen ise sun kar shayad,lekin dhun hai achhi kyoki gazal ke ehsaas ko banaye rakhne me yah kamyab rahi hai.

gazal ke bol bahut achhe hain...pichhle yugm-geeton me jo ek kami si thi...geet me kuchh attracting aur glamourous word nahi the,wo is gazal me puri ho gai.urdu aur hindi ka mishran aksar prabhavkari hota hai...yahan bhi hua hai,halanki gayki me in shabdon ke uchcharan ko aur tavajjo di jani chahiye thi.

din-b-din geeton ka star sudhar raha hai..asha hai sheeghr hi hum ise lekar koi bara kadam utha payenge.prayas jari rahe!

shubh kamnayen!

dhanyawaad!
-janmejay.

888 Casino On The Net का कहना है कि -

i love this gazal... i know manuj for about 10-12 years form the dya we meet he is verymuch found of gazals and @ that time he is also writings sheers which is quite nice and uniq... now the his gazals whic has been song by some new singer is lovely so i hope if Mr. Jagjit Singh sing his gazal then it will be in a hit... keep it on and we need more new gazals from u in future...

Sudipto

Manuj Mehta का कहना है कि -

Sudipto
its very nice that you haveappreciated my lyrics but you have forgotten to appreciate the Singer and the Composer. the kind of effort Anroop and Nishant has put in is commendable. this job can not be completed without the composer and the singer. I am highly obliged with the collective effort.

My regards to Nishant and Anuroop

Manuj Mehta

gaurav Mehrotra का कहना है कि -

bahut achha, kuch shabdon main bahut kehne ki koshish, pasant ayi .style alag laga
bi

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

मुझे अनुरूप का काम बहुत पसंद आया, हालाँकि मैं जन्मेजय जी की बात से इत्तेफाक रखता हूँ कि इसकी धुन सुनी हुई सी लगती है। लेकिन ग़ज़लों की धुनें सुनी-सुनाई ही होती हैं अक्सर, इसलिए अनुरूप तो अपने काम में पूरी तरह सफल हैं।

गायकी की बात करें तो निशांत ने बहुत बढ़िया कोशिश की है, मगर जब वे पहले अंतरा के बाद 'नज़रऽऽऽऽऽऽऽरररररर आती है' गाते हैं, तब यह कम नेचुरल लगता है।

ग़ज़ल में मनुज जी ने रदीफ़ 'नज़र आती है' लिया है जिसका वो तीनों शे'रों में पालन करते हैं। काफ़िया कुछ स्पष्ट नहीं है। मतले की पहली पंक्ति में लगता है कि काफिया 'ई' है, लेकिन मतले की दूसरी पंक्ति में यह 'ईं' (ई और अनुस्वार) हो जाता है। यदि बिन्दी को नज़रअंदाज़ भी करें तो 'ई' काफिया का पालन दूसरे शे'र में दो दीखता है लेकिन तीसरे शे'र में वो भी नहीं दीखता। अगर यह ग़ज़ल व्याकरण-सम्मत होती तो और सुंदर बनती। ग़ज़लगों को अपनी ग़ज़लें संगीतकारों को भेजने से पहले व्याकरण के साथ उनका ताल-मेल जाँच-परख लेना चाहिए।

मुझे लगता है कि इस कम्पोज़्ड ग़ज़ल में १-२ शे'र और होने चाहिए थे।

मेरी शुभकामनाएँ अगले प्रोजेक्ट के लिए।

**ravishing*** available to few**** का कहना है कि -

hey congrats to all of u as a team for this wonder ful effort........
keep this doing in future too....
Anuroop, Nishant and Manuj, congrats.........
n offcourse hindyugm too.......
regards.....
Ravi 'shatir'

Aparajita का कहना है कि -

Liked the lyirics Manuj. Have always complimented that u have this inner strength to pull of what u want to portray thru the language. It's amazing. I would also like to compliment the composer, Anurup and singer Nishant. I think it's a baby of all three of u so i can'tget away with just compliment Manuj. It was lovely. Hope to hear and feel refreshed. Ghazals to me are refreshing!
Aparajita.

- K का कहना है कि -

I would say its really nice.If first step is like this what will be the future...''agar agaaz ye hai toh anjaam kya hoga '' :)

sha का कहना है कि -

nice attempt! its good to hear a ghazal at hind-yugm. the first impression that comes in my mind is that the composition could have been better. the important thing to note in this ghazal is that the stress while composing should have been given on the words khamoshi, yaas afreen, manaati and gard-e-raah. here the stress everytime has been given on nazar aati hai. if that can be corrected, the actual saying of the ghazal will be conveyed.
voice quality is excellent which should not be restricted in the frame-work, let it bloom a bit more.
its really very very nice to see manuj's name here. he has been writing for long and its just the begining for much to come.
all the best!

diya22 का कहना है कि -

ap tino ko is naye surile gzal ke liye bahut bahut badhai.sach me hindyugm ke title song[badhe chalo]ke baad yah rachna sabse acchi lagi.bar sunane ko man karta hai.isliye shayad kuch aur badi honi chahiye thi.dhun sweet aur melodious hai.
deepali

रंजना [रंजू भाटिया] का कहना है कि -

bahut sundar koshish hai accha laga isko sunana

Sudeep का कहना है कि -

Good things - Good production, recording quality of this comp is the best on yugm till date. Bad things - Reverb is high for the feel of the song. Lyrics are inresting but not pinch hitting, the beat are octa samples whereas Ghazal should be with Tabla, the piano is overdone at the cresendo, it should be complemented with flute. Moreover there is no musical groove in the comp, its imperative for a Ghazal to have a groove to sustain the mood. To my mind its a mood which you carry in the Ghazal from begining till end. If you want to explore hidden melody of this comp then use live voilin & it will superbly elevate the crux. Overall rating - 3 on a scale of 5

soch का कहना है कि -

A very beautiful gazal in every sense.the voice is actually matching the intensity and the depth of the lines of the gazals which really does matter and the music is excellent soft and lovely. very good.
the the lyrics are no doubt superb.
my good wishes are wid u all.

Sandeep का कहना है कि -

Bahut ki sundar...nishant ki awaaz bahut achchhi hai.

Raginee का कहना है कि -

Actually when read the ghazal didnt seem that impressive, but the voice has suited it really well....and though a short one...i really enjoyed listening to it ....Really well done Manuj and still more credits to the singer....

Anonymous का कहना है कि -

Let me congratulate the singer for his ability to understand the nuances of the ghazal & express it as they should have been. The music is excellent. It becomes all the more laudable if one takes the age of music director (only 18 years) into account. The singer is equally young and has the long way to go. He is expected to be a star singer one day.
Brijesh Bhandari
Noida

Manish Kumar का कहना है कि -

मुझे निशांत की आवाज में काफी संभावनाएँ नज़र आईं उन्हें बहुत बहुत बधाई। अपने निरंतर प्रयास से वो इसमें और निखार लाएँगे ऐसी उम्मीद है।

ग़ज़ल के बोल सामान्य लगे। आगे से कम से कम तीन अशआर वाली ग़ज़ल चुनें।

तपन शर्मा का कहना है कि -

वाह!!...
१८ वर्ष की आयु में भी अनुरूप जी ने बहुत अच्छा संगीत दिया है।
मनुज जी द्वारा लिखित बोल बहुत अच्छे लगे.. मनुज जी, आप हिन्दयुग्म के लिये लिखना भी शुरू कीजिये..निशांत जी की आवाज़ गज़ल में बहुत बढिया लगी पर उसे गीत की तरह निभाया लगता है.. गज़ल में वैसा टच नहीं आ पाया जैसा आमतौर में गज़ल में होता है..
अगले गीत का इंतज़ार रहेगा..

धन्यवाद

Raj का कहना है कि -

Thts gr8 dudes. i like ur gazal.
go ahead.

सुनीता शानू का कहना है कि -

खूबसुरत आवाज़ के साथ-साथ संगीत भी मस्त है...बहुत अच्छा लगा सुन कर,...मेरी शुभकामनाएं है आप सभी के साथ...
सुनीता शानू

BRAHMA NATH TRIPATHI का कहना है कि -

निशांत जी मुझे लगता है ग़ज़ल गाने में आप कहीं कहीं जगजीत सिंह जी की कॉपी करते हुए लगे है
आपकी आवाज़ अच्छी है यदि आप इसे किसी की कॉपी न करके अपने लय में गाये तो शायद ज्यादा अच्छा होगा
और बाकि सब का काम अच्छा ग़ज़ल में कुछ थोडी कमियां है जो शैलेश जी ने यहाँ बताई है
संगीत कर्णप्रिय है

सजीव सारथी का कहना है कि -

अनुरूप, मुझे आप पर गर्व है, और आगे के लिए भी आपसे बहुत सी उम्मीदें हैं मुझे, निशांत की आवाज़ ग़ज़ल गायिकी के लिए परफेक्ट है, खूबसूरत ग़ज़ल बनी है, मनुज को पिछले कई सालों से पढता आ रहा हूँ, और मुझे लगता है की वो और बहुत बेहतर लिख सकते हैं....आने वाली ग़ज़लों के लिए शुभकामनायें ...

Rishi का कहना है कि -

Very nice attempt. Congrats to the team!

संत शर्मा का कहना है कि -

Prayash achcha laga, Gazal thoda chota tha, lekin achcha tha.

भूपेन्द्र राघव । Bhupendra Raghav का कहना है कि -

तीनो ने बहुत बढिया निभाया है...

बहुत सुन्दर.........

shivani का कहना है कि -

वाह ,बहुत खूब !अनुरूप तुम्हारे चेहरे पर सफलता की लकीरें नज़र आती हैं ...बहुत अच्छा संगीत दिया है बधाई हो आपको !मनुज जी आपने बहुत अच्छा लिखा है !मैंने पहली बार पढ़ा है आपका लिखा !बहुत बहुत मुबारक !निशांत जी आपकी आवाज़ बहुत सधी हुई और अच्छी लगी !आपसे और भी सुनने की आशा है मुबारकवाद लीजिये !..

Anonymous का कहना है कि -

awaj badhiya hain,koi shak nahi,par mujhe lagta hain ki music compose karne main generally ghazal main ek para se dusre para k beech thoda aur gap hona chahiye tha,,jis jagah ko kubsurat tunning se fill kar sakte the ya fir mukhde ki hi tune daal sakte the,main shailesh ji se sahmat hu ki uchharan me thodi aur sudhar karte to aur behtar hota ,aur is ghazal main kuchh panktiya aur dalte to maja aa jata.

congrats nice ghazal fir bhi bani hai

Pooja का कहना है कि -

Now that's something!!

You're really talented man!!

Keep up the good work and you're sure to go a long way!!

सागर नाहर का कहना है कि -

अफ़्री= आफ़री/ आफ़रीन..?

krissh का कहना है कि -

Hey mast hai yaar... good to hear what i remember that u used to write even during school days...and the way its sung is too good.. keep it up buddy

Anonymous का कहना है कि -

great job done by manuj sir....so deep thoughts marvellous words..its great//

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन