Saturday, August 23, 2008

सुनो कहानीः प्रेमचंद की 'अंधेर'



सुनिए 'सुनो कहानी' अभियान की पहली कड़ी- प्रेमचंद की कहानी 'अंधेर' का पॉडकास्ट


अभी २ दिन पहले ही हमने वादा किया था कि हम हिन्दी साहित्य के ऑडियो बुक पर काम करेंगे। लीजिए हम हाज़िर है एक कहानी लेकर। इससे पहले हम ५ कहानियों का पॉडकास्ट प्रासरित भी कर चुके हैं। नियमित कहानी प्रासरण की शृंखला की पहली कड़ी के तहत हम उपन्यास सम्राट प्रेमचंद की कहानी 'अंधेर' लेकर उपस्थित हैं।

इस कहानी को वाचा है अनुराग शर्मा उर्फ़ स्मार्ट इंडियन ने।

नीचे के प्लेयर से सुनें.

(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)



यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंकों से डाऊनलोड कर लें (ऑडियो फ़ाइल तीन अलग-अलग फ़ॉरमेट में है, अपनी सुविधानुसार कोई एक फ़ॉरमेट चुनें)





VBR MP364Kbps MP3Ogg Vorbis


आज भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं, तो यहाँ देखें।

#First Story, Andher: Munsi Premchand/Hindi Audio Book/2008/01. Voice: Anuraag Sharma

फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

5 श्रोताओं का कहना है :

सजीव सारथी का कहना है कि -

अनुराग भाई बहुत बधाई शुरुवात है, पर एक बात कहूँगा, बिल्कुल फ्लैट पढने कि जगह कुछ भाव लेकर प्रस्तुति दिया करें, पार्श्व में कुछ संगीत का प्रयोग भी कर सकें तो बेहतर हो जाएगा.....

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

अनुराग जी,

बहुत सुंदर प्रयास है। सबसे अच्छा है कि आपकी आवाज़ बिलकुल स्पष्ट है और उच्चारण बिलकुल दुरूस्त। हाँ, लेकिन आपको थोड़े और एक्सप्रैशन्स लाने होंगे। बैकग्राउँड संगीत डालने का सजीव का आइडिया अच्छा है।

diya22 का कहना है कि -

आवाज़ बहुत अच्छी और स्पष्ट है.पर अगर थोड़े और भाव के साथ पढ़ी जाया तो और अच्छा लगेगा

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन का कहना है कि -

सजीव जी, शैलेश जी और दिया जी,

आप सभी को कहानी ध्यान से सुनने और आगे सुधार के लिए अच्छी सलाह देने के लिए आभार. आपके विचार हमारे इस प्रयास को बेहतर ज़रूर बनायेंगे. कृपया आगे भी ऐसी कृपादृष्टि बनाए रहिये.

धन्यवाद!

शोभा का कहना है कि -

अनुराग जी
कहानी अच्छी पढ़ी है। थोड़ा भाव और डालें तो और अच्छी लगेगी। सस्नेह

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन