Friday, October 17, 2008

मैं इबादत करूँ...या मोहब्बत करूँ.....



दूसरे सत्र के सोलहवें गीत का विश्वव्यापी उदघाटन आज -

सूफी संगीत की मस्ती का आलम कुछ अलग ही होता है. आज आवाज़ पर हम आपको जिस संगीत टीम से मिलवा रहे हैं उनका संगीत भी कुछ युहीं डुबो देने वाला है. भोपाल मध्य प्रदेश की यह संगीत टीम अब तक आवाज़ पर पेश हुई किसी भी संगीत टीम से बड़ी है, सदस्यों की संख्या के हिसाब से. आप कह सकते हैं कि ये एक मुक्कमल संगीत टीम है, जहाँ गायक, संगीत संयोजक गीतकार और सभी सजिंदें एक टीम की तरह मिल कर काम करते हैं. टीम की अगुवाई कर रहे हैं गायक अरेंजर और रिकोरडिस्ट कृष्णा पंडित और निर्देशक हैं चेतन्य भट्ट. साथ में हैं गीटारिस्ट सागर, रिदम संभाला है हेमंत ने गायन में कृष्णा का साथ दिया है अभिषेक और रुद्र प्रताप ने. इस सूफियाना गीत के बोल लिखे हैं गीतकार संजय दिवेदी ने. पूरी टीम ने मिलकर एक ऐसा समां बंधा है की सुनने वाला कहीं खो सा जाता है. तो सुनकर आनंद उठायें इस बेहद मदमस्त गीत का और इस दमदार युवा संगीत टीम को अपना आशीर्वाद और प्रेम देकर हौसला अफजाई दें.

गीत को सुनने के लिए नीचे वाले प्लेयर पर क्लिक करें-



A complete sufi band is here to present the 16th song of the season - "sooraj chand aur sitare". lead playback by Krishna Pandit supported by Abhishek aur Rudra Pratap, Chetanya Bhatt plays the director, lead guitarist is Sagar.Hemant handled the rhythm section while Krishna Pandit did the arranging and recording work. this very soulful sufiyana song has been penned by lyricist Sanjay Diwedi is surely has the power to uplift your spirit. so enjoy this song here and encourage this very young team who has all the elements in them to make it big in the coming days. all they need is your love and support.

Click on the player to listen to this brand new song -



गीत के बोल - Lyrics

सूरज चाँद और सितारे,
तेरे ही दम के सहारे,
तेरे ही करिश्में में जग समाया है,
मेरी साँसों में धडकनों में,
इश्क के जज्बातों में,
और सभी के दिलों में तू समाया है...
सूरज चाँद और सितारे ...

धडकनों की जबां पे नाम तेरा ही है,
हर एक लम्हें में जुस्तुजू तेरी है
इस गुलिस्तान में तुझको पाया,
आरजू में तू ही छाया,
मेरे हर सफर में तू समाया है...

इस जमीं आसमान में तेरा ही जलवा है,
तेरी एक नज़र से महका ये आलम है
हर तरफ़ है तेरा जादू,
हर खुशी हर गम है तू,
इस दुनिया का तू सरमाया है....

मैं इबादत करूँ या मोहब्बत करूँ
तेरे दीवाने पन में मैं दीवाना बनूँ,
तेरी चाहत में सबको भूलूँ
तू मेरा और मैं तेरा हो लूँ ,
तेरे ही इश्क में तुझको पाया है....


SONG # 16, SEASON # 02, "SOORAJ CHAND AUR SITARE..." OPENED ON AWAAZ, HINDYUGM ON 17/10/2008.
Music @ Hind Yugm, Where music is a passion.


ब्लॉग/वेबसाइट/ऑरकुट स्क्रैपबुक/माईस्पैस/फेसबुक में 'सूरज, चंदा और सितारे' का पोस्टर लगाकर नये कलाकारों को प्रोत्साहित कीजिए


फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

12 श्रोताओं का कहना है :

Subodh Sathe का कहना है कि -

Why this song is Chorus? is wajaha se shayad thoda loud lagta hai. Recording quality, composition, gane ke bol and music bahut badhiya hai. Is song ka solo version shayad aur behtar lagega?? not sure. But bahut sarahaniya prayas! All the best.

nesh का कहना है कि -

nice combination,bahut khub likha aur gaya hai.

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

गीत के बोल पर मेहनत कम हुई है। कई अंतराओं में सम-स्वरांत पंक्तियाँ नहीं हैं। लेकिन उम्दा संगीत और उम्दा गायकी के कारण यह कमी बिल्कुल दृष्टिगोचर नहीं होती। आवाज़ पर रीलिज अब तक ज़ारी सभी गीतों में से इसका संगीत संयोजन सबसे बढ़िया है। 'नहले पे दहला' गीत आते जा रहे हैं। इन प्रयासों को देख-सुनकर यह लगता है कि नामी फनकारों के इतर इस दुनिया में बहुत बढ़िया-बढ़िया हुनर छुपे हुए हैं। बस ज़रूरत है खोजने की, और खोजकर एक मंच पर लाने का काम 'आवाज़' भली-भाँति कर रहा है।

shivani का कहना है कि -

बढ़िया गीत है ! धन्यवाद !इस गीत की पूरी टीम को बहुत बहुत शुभकामनायें !

शोभा का कहना है कि -

वाह! बहुत खूब.पुरी टीम को बधाई.

दीपाली का कहना है कि -

बहुत बढ़िया.बधाई हो.
बहुत ही सुंदर गीत और धुन भी .
बस मुझे भी यही लगा कि सोलो गायकी होती तो चार चाँद लग जाते.

Biswajeet का कहना है कि -

Bahut bahut badhaai...

Anonymous का कहना है कि -

aaj maine suraj chand aur sitare wala geet suna , bahut achha laga

Tulika, Vns

janmejay का कहना है कि -

namaskaar!

badhai is sundar geet ke liye!
bilkul professional geet hai,geet popularity paye,yah geet banane me sabse jyada prior raha,aisa saaf jhalakta hai.band-songs jaise hote hain,waisa hi hai,aur shayad yah ek achhi hi baat hai.

geet sahityik drishtikon se kamjor hai.geet ka sanyojan bhi aisa hai,ki agar bol behtar bhi hote,to bhi us par dhyan nahi jata.bas "suraj ,chand aur sitare...."wali line hi yaad rah pati hai geet khatm hone ke baad...aur shayad yahi composer ne purposely kiya bhi hai ki geet ki shuruati do line shrotaon ki jubaan par chadh jaye.

gayki achhi hai,lekin pura geet chorus me rakhne ki bajay agar solo aur chorus mix rakhte to kahin behtar hota.

geet ki lambai achhi-khasi hai,lekin isme ekrasta hai,shayad chorus ki wajah se thora sa sapat ho gaya hai geet.

ek well-recorded song hai,vadyon ka sanyojan bhi achha ban para hai,is hetu puri team prashansa avam badhai ki patr hai.

pure yugm pariwar ko is jhumau geet ki badhai!

dhanyawaad!

-Janmejay

Anonymous का कहना है कि -

bahut accha hai.

Anup Manchalwar

Anonymous का कहना है कि -

the song was very good!! i liked the band...they will surely go a long way! very young, very raw & very fresh! thanx for such a wonderful song!

raj

Anonymous का कहना है कि -

मजा आगया .............कुछ नया और बेह्टर सुनाने के लिए धन्यवाद........
गिटार और तबले का अच्छा समायोजन किया है............युवा स्वर ताजगी लिए हुए है.........

asha

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन