Wednesday, March 18, 2009

एक सम्मोहन का नाम है जगजीत सिंह




पुरुस्कार और म्युजिक थैरेपी

इसके अलावा भी उनकी और एलबम आयी जैसे कहकशां, चिराग जो बहुत लोकप्रिय हुईं। कुछ आलोचकों ने ( जी हां कुछ आलोचक अब भी बचे हुए थे) दबी जबान में कहना शुरु किया कि हांSSSSS , जगजीत सिंह सिर्फ़ सेमी क्लासिकल गजल ही गा सकते हैं उनके पास वेरायटी नहीं है। इस का जवाब दिया जगजीत जी ने पंजाबी गाने गा कर जो एकदम फ़ास्ट, जिंदा दिली से भरे हुए गाने थे जिन्हें सुनते ही आप के कदम अपने आप थिरकने लगें। साथ ही उन्हों ने गाये भजन जो मन को इतनी शांती देते हैं कि आप मेडिटेशन कर सकते हैं।

सबसे ऊंची प्रेम सगाई


और अब सुनिए एक पंजाबी गाना


और आज भी जगजीत जी गायकी के क्षेत्र में नये नये प्रयोग कर रहे हैं । लोग कहते हैं कि नब्बे के दशक से उनकी आवाज में, उनकी गायकी में और निखार आ गया है। मानव मन का ऐसा कोई एहसास नहीं जिसे जगजीत जी अपनी गजलों में न उतार सकते हों। इसी कारण अनेकों बार उन्हें अलग अलग सरकारों से सम्मान मिला है। उनके पिता जो साठ के दशक में उनके संगीत में अपना भविष्य बनाने के निश्चय से चिंतित थे आज गर्व से फ़ूले नहीं समाते। लेकिन सबसे बड़ा पुरुस्कार तो जगजीत जी की गायकी को तब मिला जब भोपाल के एक अस्तपताल ‘हमीदिया हॉस्पिटल’ में म्युजिक थैरेपी पर चल रहे प्रयोग के नतीजे सामने आये। इस प्रयोग में ये पाया गया कि जगजीत जी की गजलें जब ऑपरेशन थिएटर के अंदर बजायी गयीं तो मरीज को कम दर्द का एहसास हुआ, ये कहना था वहां के मुख्य ऐनेस्थिया देने वाले डाक्टर आर पी कौशल का। और इसी तरह जब अस्तपताल के दूसरे हिस्सों में जगजीत जी की गजलें बजायी गयी तो मरीजों का चित्त प्रसन्न रहता था और वो शीघ्र स्वास्थय लाभ ले कर घर को लौट जाते थे। ऐसा है जगजीत जी की गायकी का जादू।

सुनिए मेरी पसंद की दो और गज़लें-
जो भी भला बुरा है अल्लाह जानता है


आदमी आदमी को क्या देगा जो भी देगा खुदा देगा


कोई भी कलाकार अच्छा कलाकार तभी अच्छा कलाकार हो सकता है जब वो अच्छा इंसान हो। जगजीत जी भी इस नियम के अपवाद नहीं। जब वो साठ के दशक में बम्बई आये थे तो उन्हें अपनी जगह बनाने के लिए कई साल लगे थे और अथक परिश्रम करना पड़ा था, इस बात को वो आज तक नहीं भूले। नये कलाकारों को प्रोत्साहन देना मानों उन्होने अपना धर्म बना लिया हो। आज के कई नामी कलाकार उन्हीं की पारखी नजर और प्रोत्साहन का नतीजा हैं जैसे तलत अजीज, घनश्याम वासवानी, विनोद सहगल, सिजा रॉय, और अशोक खोसला को प्रोत्साहन देते हमने उन्हें खुद एक लाइव कॉन्सर्ट में देखा है। उन्हें कभी असुरक्षा की भावना ने त्रस्त नहीं किया कि ये लोग स्थापित हो गये तो मेरी मॉर्केट का क्या होगा। संगीत तो उनके लिए पूजा है।

सफ़लता का राज

एक बार किसी ने उनसे पूछा था कि आप इतने सालों से एक के बाद एक इतनी अच्छी गजलें कैसे दे पाते हैं, हर गजल अपने आप में एक नगीना होती हैं । उनका सीधा साधा उत्तर था कि मैं सबसे पहले ध्यान देता हूँ कवि पर, जिसकी नज्म या गजल मेरे दिल में उतर जाए उसी को मैं अपनी आवाज से सजाता हूँ, जो मेरे दिल में ही नहीं उतरे वो सुनने वाले के दिल में कैसे उतरेगी। उनकी चुनी हुई गजलों को देख कर ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि उन्हें कविता की कितनी समझ है। उन्हों ने चुन चुन कर मिर्जा गालिब, आमीर मिनाई, कफ़ील आजर, सुदर्शन फ़ाकिर, निदा फ़ाजिल की की रचनाओं में से गजलें चुनीं।

जितनी अच्छी उनकी गायकी है उतनी ही अच्छी उनकी विभिन्न भाषाओं पर पकड़ है। फ़िर भी वो इस बात का ध्यान रखते हैं कि वो जो भी गायें वो इतने सीधे सादे शब्दों में हो कि लोगों को आसानी से समझ में आ जाए। अगर आप अपना ज्ञान ब्खान कर रहे हैं लेकिन सुनने वाले को कुछ समझ ही नहीं आ रहा तो वो ऐसे ही है कि ‘भैंस के आगे बीन बजाए भैंस खड़ी पगुराए’, इस बात को जगजीत जी बखूबी समझते हैं और इसी लिए उनके नगमें हर दिल अजीज होते हैं।

तीसरी बात जो ध्यानाकर्षण करती है वो ये कि जगजीत जी मानते हैं कि आजकल के संगीत में शोर ज्यादा है और आत्मा कहीं खो गयी है। उसका कारण है आज की मौजूदा तकनीकी सुविधा। आज एक संगीतकार को कई प्रकार की मशीनें उपलब्ध हैं जैसे रिदम मशीन, सिन्थेसाइजर, सेम्पलरस्। ऐसे में संगीत तो मशीन देती है संगीतकार थोड़े ही देता है तो संगीत में आत्मा कहां से आयेगी, मेहनत के पसीने की सौंधी खुशबू कहां से आयेगी। जितने कम से कम वाद्ध्य का इस्तेमाल होगा संगीत उतना ही मधुर होगा। हमें ये बात एकदम सही लगती है, आप क्या कहते है?

बकौल जगजीत जी संगीत न सिर्फ़ हमारी आत्मा को तृप्त करता है बल्कि हमारे जीवन को भी संवारता है , आप पूछेगे कैसे? तो जगजीत जी बताते है कि जब एक गायक नियमित रियाज करता है तो उसके जीवन में अनुशासन आता है और ये अनुशासन सिर्फ़ संगीत के क्षेत्र में ही नहीं उसके जीवन के दूसरे अंग भी छूता है। अनुशासित व्यक्ति अपने आप सफ़ल हो जाता है ये तो जग जाहिर बात है।

अंत में हम तो यही कहेगें जगजीत सिंह वो कलाकार है जो समय के साथ साथ और कुंदन सा निखरता जाता है और जिसकी आवाज के जादू से उसके पीछे सम्मोहित से चलने वालों की भीड़ और बड़ती जाती है। ऐसे हैं हमारे जगजीत सिंह “The Pied Piper”.

यूं तो जगजीत जी के कई गाने हैं जो मुझे पसंद है और उनमें से कुछ गीत चुनना बहुत ही मुश्किल काम है फ़िर भी एक दो गीत और हो जाएं?

होठों से छू कर तुम मेरे गीत अमर कर दो


वो कागज़ की कश्ती वो बारिश का पानी...


चलते चलते देखें कैसे सम्मोहित करते हैं जगजीत सिंह अपनी गायकी से श्रोताओं को -


प्रस्तुति - अनीता कुमार



फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

4 श्रोताओं का कहना है :

mamta का कहना है कि -

जगजीत सिंह की आवाज के क्या कहने ।
और live सुनने मे तो और भी मजा आता है ।

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

म्यूजिक थेरिपी वाली बात तो मुझे नहीं पता चली। जगजीत सिंह के हर पहलू पर पेनीदृष्टि डालने का शुक्रिया।

आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' का कहना है कि -

जगजीत सिंह जी पर आपने रुचिकर सामग्री दी, धन्यवाद. जबलपुर के प्रसिद्द हृद्रोग विशेषज्ञ डॉ. शर्मा ने उच्च रक्त चाप और हृद्रोग से पीडितों को गायत्री मन्त्र का श्रवण और जाप कराकर तेजी से सुधर देखा. दुधारू पशुओं को संगीत सुनाते हुए दुहने से अधिक उत्पादन देखा गया. अतः जगजीत जी आवाज के चिकित्सकीय प्रभाव को स्वीकारने में मुझे कोई विस्मय नहीं है.

neelam का कहना है कि -

allah jaanta hai ,
kaafi dino baad
ye gazal sunne ko mili aap ke sojanya se ,hum kitne khush hain ise sunkar ,allah jaanta hai .....
dhanyabaad achche lekh ke saath achche gazalon ki prastuti ke liye .
aage bhi aise hi padhne aur sunne ko milega ,isi umeed ke saath ,
khuda haafij

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन