Wednesday, January 7, 2009

एक धक्का दो....जोश की जमीन पे, विश्वास बीन के...



आवाज़ की टीम गर्व के साथ पेश कर रही है एक बेहद प्रताभाशाली गायिका तरन्नुम मालिक

जैसा कि हमारे नियमित श्रोता जानते हैं कि आवाज़ पर नए संगीत का दूसरा सत्र बीते माह "जो शजर" गीत के साथ खत्म हो गया. इस सत्र में हमने कुल २७ गीत उतारे जिन्हें श्रोताओं का भरपूर प्यार मिला, ये गीत आजकल समीक्षा के दूसरे चरण में हैं जिसके बाद हमें मिलेंगें हमारे टॉप १० गीत जिसमें से कोई एक गीत होगा हमारे दूसरे सत्र का सरताज गीत. पर सत्र खत्म होने का ये कतई अर्थ नही है कि हम नई प्रतिभाओं को इस मंच के माध्यम से दुनिया के सामने रखना बंद कर देंगें. ये प्रक्रिया बदस्तूर जारी रहेगी.

२६ नवम्बर २००८ को जो कुछ मुंबई में हुआ, उससे हर संवेदनशील ह्रदय आहत हुआ. कलाकारों ने अपनी कला के माध्यम से आम आदमी के भीतर उबलते ज़ज्बातों को दुनिया के सामने रखा. रहमान ने शिवमणि के साथ मिलकर "जिया से जिया" गीत रच डाला. आदेश श्रीवास्तव ने उस्ताद रशीद खान और जोया अख्तर के साथ मिलकर एक नई एल्बम बनायी, वहीं सुनिधि चौहान ने वसुंधरा दास और श्रुति के साथ एक ऐसा गीत बनाया जिसमें इन आतंकवादी हमलों की कड़ी भर्त्सना की गई. शिबानी कश्यप ने भी इन हादसों में मरे मासूमों को समर्पित गीत रचा "अलविदा" जो आजकल चैनलों पर खूब बज रहा है. हिंद युग्म ने भी अपनी बात ऋषि-बिस्वजीत और सजीव की टीम के माध्यम से अपने अंदाज़ में कही, जिसे इन्टरनेट पर खासी लोकप्रियता मिली.


उभरते हुए लेखक और निर्देशक अभिषेक भोला ने इन घटनाओं के बाद अपना गुस्सा कुछ शब्दों में समेटा और अपने चंद दोस्तों को एस एम् एस कर दिया. उनकी एक दोस्त और तेज़ी से कमियाबी की दिशा में अग्रसर पार्श्व गायिका तरन्नुम मालिक ने उनके उन शब्दों को स्वरों का जामा पहना दिया, और इस तरह बना एक नया गीत "एक धक्का दो..". उनके प्रयासों से प्रभावित होकर एक और पार्श्व गायक मित्र जुबेन गर्ग ने अपने होम स्टूडियो में पहले इस गीत को तरन्नुम की आवाज़ में रिकॉर्ड किया. प्रयास से प्रयास जुड़ते गये, और गाने का दम ख़म देखकर संगीतकार ललित सेन उन्हें इस गीत को अपने स्टूडियो "सबा" में री-रिकॉर्डिंग और मिक्सिंग करने की अनुमति दी, जिससे गीत और निखर गया. अभिषेक ने अपने दोस्तों की इस मेहनत को और पुख्ता रूप देने के उद्देश्य से अपनी टीम लेकर व्यक्तिगत हैंडी कैम से मुंबई के नेशनल पार्क, मनौरी, नरीमन पॉइंट और गेट वे ऑफ़ इंडिया के कुछ स्थानों पर जाकर कुछ दृश्य फिल्माए. क्षेत्रीय लोगों ने और पर्यटकों ने इस शूट में हिस्सा लिया और इस तरह बना देशभक्ति और मानवता का संदेश देता एक जोशीला गीत.

सुनिए और महसूस कीजिये आज के हालतों में भी देश के युवाओं के मन में उठते तूफानों को -




टीम -

संगीतकार और गायिका - तरन्नुम मालिक
सह गायक - संतोष और सुहेल
गीतकार - अभिषेक भोला
प्रोग्रामर - ब्रिन्गी
रीकोरडिस्ट - रफीक (सबा स्टूडियो)
कैमरा - गुरदीप मेहरा
एडिटर - मानिल कुमार रे
विडियो निर्देशक - अभिषेक भोला और केशव मेहता
अभिनय - तरन्नुम मालिक, जगजीत सैनी, बोब्बी कुमार, शिवम् शर्मा, प्रीटी शर्मा, रवि और मुंबई वासी.


गायिका तरन्नुम से हम जल्दी ही आपका विस्तार से परिचय करवाएंगे. तब तक देखिये ये दमदार विडियो और इन उभरते हुए फनकारों को अपने विचार देकर प्रोत्साहित करें या मार्गदर्शन दें.



SPECIAL NEW SONGS SERIES # 01 "EK DHAKKA DO", OPENED ON AWAAZ HIND YUGM ON 07/01/2009

फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

13 श्रोताओं का कहना है :

सजीव सारथी का कहना है कि -

बहुत बढ़िया लिखा है आपने अभिषेक इस गाने को और तरन्नुम की आवाज़ में बहुत दम है.....विडियो की एडिटिंग भी जबरदस्त है. कुल मिला कर एक बहुत सशक्त प्रस्तुति दी है आप सब ने मिलके....बधाई

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन का कहना है कि -

लाजवाब गीत है, संगीत, विडियो आदि सभी बहुत लगन और सुन्दरता से बनाए गए हैं. इतनी सुन्दरता के बीच गायिका का उच्चारण थोडा खटकता है. कुल मिलाकर ऑडियो और विडियो दोनों ही बहुत प्रभावशाली हैं. आप सब आगे बढते रहे. शुभकामनाएं और बधाई!

तपन शर्मा का कहना है कि -

जोश भर दिया है इस गीत ने..
पहले ऑडियो सुना.. फिर जब वीडियो देखा तो और जोश आ गया.. जबर्दस्त गीत...

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

अभिषेक भोला से मेरी लम्बी बात हो चुकी हैं। वे बहुत ही प्रतिभाशाली और उर्जावान डायरेक्टर हैं। वे एक महात्वकांक्षी फिल्म 'कॉफी' बनाना चाहते हैं। हिन्द-युग्म इस फिल्म का मीडिया पार्टनर होगा। जल्द ही हम पूरे विवरण के साथ उपस्थित होंगे।

इस गीत का संगीत, बोल और वीडियो-निर्देशन तीनों पसंद आये। अभिषेक ने जिस तरह के बोल लिखे हैं, वह किसी में भी उर्जा भरने के लिए काफी हैं। और कम से कम आज की युवा पीढ़ी के लिए ज़रूरी भी लगते हैं। मैं समझता हूँ कि आवाज़ पर जल्द ही उनके द्वारा लिखे अन्य गीतों का संगीतबद्ध रूप लेकर हम हाज़िर हो पायेंगे।

इस प्रयास से जुड़े सभी कलाकारों को बहुत-बहुत धन्यवाद।

तपन शर्मा का कहना है कि -

"हिन्द-युग्म इस फिल्म का मीडिया पार्टनर होगा।"..

जानकर अच्छा लगा भाई... विवरण का इंतज़ार रहेगा...

Pankaj का कहना है कि -

hi abhi excellent yaar.. Ur whole team did a great job.....all the best..

Pankaj का कहना है कि -

hello abhi...well done..tumahari poori team ne bahut accha kaam kiya hai. all the best to all of u..

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन का कहना है कि -

फिल्म 'कॉफी' का मीडिया पार्टनर बन्ने की बात जानकर बहुत खुशी हुई.
बहुत-बहुत बधाई!

Tarannum का कहना है कि -

thanks to all of you 4 appreciating r attampt...

RINKU का कहना है कि -

HELLO ABHI G N TARANNUM G APP LOGON NE BAHUT ACCHA DHAKKA DIYYA HAI LOGON K ZAMEER KO JAGANE K LIYE. WE ALL WANT TO DO SOMTHING BUT ITS ALSO TRUE DOOSRO MAIN GALTIYAN NIKALNE KI ADAT SI PADD GAYEE HAI SABKO.. NYWAYS I M SURE K APKI MEHNAT JAROOR RANG LAYEGGI...MERI TARAF SE APPKO AUR AAPKI POORI TEAM KO BAHUT BAHUT BADHAI... ALL THE BEST FOR YOUR COMING PROJECTS....

RINKU
SOUTH AFRICA

तपन शर्मा का कहना है कि -

IBN पर आज आया यह वीडियो...
हिन्दी वेबसाईट में पहली बार युग्म पर...ये एक बहुत बड़ी उपलब्धि है।
http://ibnlive.in.com/videos/82209/watch-dhakka-do-an-ode-in-memory-of-2611-victims.html

virender का कहना है कि -

First of all a very nice song ...really admirable....very job by all the team..
i think this song must be shown on all major natioanl channels ...so i request all the viewwres of the song to make this song as much popular and reachable to evryone.
Congrats to all team//
Virender sharma(Gurgaon)

vijay का कहना है कि -

लाजवाब गीत है, संगीत, विडियो आदि सभी बहुत लगन और सुन्दरता से बनाए गए हैं. इतनी सुन्दरता के बीच गायिका का उच्चारण थोडा खटकता है. कुल मिलाकर ऑडियो और विडियो दोनों ही बहुत प्रभावशाली हैं. आप सब आगे बढते रहे. शुभकामनाएं और ....बधाई


Vijay Pal Singh (Bharatpur)

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन