Friday, September 5, 2008

कहने को हासिल सारा जहाँ था...



दूसरे सत्र के १० वें गीत और उसके विडियो का विश्वव्यापी उदघाटन आज.

चलते चलते हम संगीत के इस नए सत्र की दसवीं कड़ी तक पहुँच गए, अब तक के हमारे इस आयोजन को श्रोताओं ने जिस तरह प्यार दिया है, उससे हमारे हौसले निश्चित रूप से बुलंद हुए है. तभी शायद हम इस दसवें गीत के साथ एक नया इतिहास रचने जा रहे हैं, आज ये नया गीत न सिर्फ़ आप सुन पाएंगे, बल्कि देख भी पाएंगे, यानि "खुशमिजाज़ मिट्टी" युग्म का पहला गीत है जो ऑडियो और विडियो दोनों रूपों में आज ओपन हो रहा है.


सुबोध साठे की आवाज़ से हमारे, युग्म के श्रोता बखूबी परिचित हैं, लेकिन अब तक उन्होंने दूसरे संगीतकारों, जैसे ऋषि एस और सुभोजित आदि के लिए अपनी आवाज़ दी है, पर हम आपको बता दें, सुबोध ख़ुद भी एक संगीतकार हैं और अपनी वेब साईट पर दो हिन्दी और एक मराठी एल्बम ( बतौर संगीतकार/ गायक ) लॉन्च कर चुके हैं, युग्म के लिए ये उनका पहला स्वरबद्ध गीत है, जाहिर है आवाज़ भी उनकी अपनी है, संगीत संयोजन में उनका साथ निभाया है, पुणे के चैतन्य अड़कर ने. गीतकार हैं युग्म के एक और प्रतिष्टित कवि, गौरव सोलंकी, जिनका अंदाज़ अपने आप में सबसे जुदा है, तो आनंद लें इस ताजातरीन प्रस्तुति का, और अपने विचार टिप्पणियों के माध्यम से हम तक अवश्य पहुंचायें.


गीत को सुनने के लिए नीचे के प्लेयर पर क्लिक करें -





To listen to this brand new song, please click on the player below -




With this 10th song of the season, we are creating a new history, as this is the first song, which we are opening in audio and video format together. Subodh who sung many song for us before, this time handle the tough job of composing also, along with singing in his mesmerizing voice.


Song penned by another reputed poet from yugm family, Gaurav Solonki, while Chaitanya Adhker from Pune, helped with music arrangement. So now after hearing the audio watch here the video of "khushmizaz mitti".We hope you like this effort, feel free to post your comments about the song and its video so that we can better ourselves in accordance with your suggestions.

Other credits - (Regarding Video)

Video Direction - Subodh Sathe.
Camera - Navendu thosar, Pankaj Makhe.
Editing - Manoj Pidadi

Video of "khushmizaz mitti"



Lyrics - गीत के बोल


खुशमिजाज मिट्टी
पहले उदास थी
चाँदनी की चिट्ठी
अँधेरे के पास थी
सुस्त सुस्त शामें थीं,
सुबहें उनींदी
सूरज के होठों को उजाले की प्यास थी
कहने को हासिल सारा जहाँ था
तुम जो नहीं थे तो कुछ भी कहाँ था...

इधर था मोहल्ला नींदों का लेकिन
रातों में पागल सोता नहीं था
अजब सी थी हालत दिल की भी मेरे
हँसता नहीं था, रोता नहीं था
कहने को हासिल सारा जहाँ था
तुम जो नहीं थे तो कुछ भी कहाँ था...

बहुत डोर थी, बहुत थी पतंगें
मगर उड़ती कैसे, नहीं थी उमंगें
ऐसा हुआ था, दिल में कुँआ था
पानी का साया भी डूबा हुआ था
कहने को हासिल सारा जहाँ था
तुम जो नहीं थे तो कुछ भी कहाँ था...

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंकों से डाऊनलोड कर लें (ऑडियो फ़ाइल तीन अलग-अलग फ़ॉरमेट में है, अपनी सुविधानुसार कोई एक फ़ॉरमेट चुनें)




VBR MP364Kbps MP3Ogg Vorbis



SONG # 10, SEASON # 02, "KHUSHMIZAZ MITTI" (Khushmizas Mitti), OPENED ON 05/09/2008, AWAAZ, HIND YUGM.Music @ Hind Yugm, Where music is a passion.

ब्लॉग/वेबसाइट/ऑरकुट स्क्रैपबुक/माईस्पैस/फेसबुक में 'खुशमिज़ाज मिट्टी' का पोस्टर लगाकर नये कलाकारों को प्रोत्साहित कीजिए


फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

15 श्रोताओं का कहना है :

Rishi का कहना है कि -

Hats off to Subodh for the amazing tune on the mukuda. Great chord progressions, not sure if its by Subodh or the arranger...songs like this set the standards for yugm. Congrats to the team.

neelam का कहना है कि -

yesterday,i went to waste my husband's hard earned money ,means i was seeing rock on the recommendation of aawaj on hindyugm ,whole time i was forced to think about u only u ,i mean aawaj ki duniya ke dostoon .what frahaan akhtar has done ,is not worth of appriciation
of single word rather i would like to congratulate u the whole unit of aawaj .i regret for my all criticism .rishi s ji are u listening to me u are doing tremendous job my all good wishes for u .script was gud but music has spoiled the spirit of that movie

आलोक शंकर का कहना है कि -

Outstanding lyrics, gaurav.
good song.

Subhojit का कहना है कि -

the hook is impressive,
d song creates d mood perfectly
godd song
only sound samples used r not tht gud

Biswajeet का कहना है कि -

Congratulations Subodh. It has come out very nice.

अवनीश एस तिवारी का कहना है कि -

The lyrics is superbbbb...

Also the music and all.

Congrates to alll


Avaneesh tiwari

diya22 का कहना है कि -

excillent,superb,mind blowing and outstanding ....
a very sweet and soul touching song
congrates to hindyugm and to the creative team..

shivani का कहना है कि -

खुशमिजाज़ मिटटी की सुगंध बहुत दूर तक जायेगी !सुबोध साठे जी आपकी आवाज़ और चैतन्य अड़कर जी के साथ आपका संगीत मधुर है !गौरव आपका गीत भी बहुत अच्छा है !आपकी कवितायेँ भी सुनी हैं ,आज आपका लिखा गीत संगीत केसाथ सुन कर अच्छा लगा !हिंद युग्म के पहले विडियो बनने की आप सब को बहुत बहुत बधाइयाँ !हिंद युग्म इसी प्रकार दिन दुनी रात चोगुनी प्रगति करे यही दुआ है !एक बार फिर गौरव जी सुबोध जी और चैतन्य जी आप सबको पहले विडियो और इतने मधुर गीत के लिए बहुत बहुत बधाई !धन्यवाद !

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

गौरव जी,
आपने अपना क्लास गीत में भी नहीं खोया है और सुबोध ने गायकी और संगीत से उसमें और जान डाल दी है। बारम्बार सुनने योग्य गीत। संगीत-संयोजक चैतन्य को भी बधाई और धन्यवाद।

सुबोध की सबसे अधिक तारीफ वीडियो के लिए करनी होगी क्योंकि वीडियो में लोकेशन्स बहुत बढ़िया-बढ़िया इस्तेमाल किये गये हैं। गीत के थीम को प्रपोगेट भी करते है। हाँ लेकिन अंतरों के वीडियो का बेहतर विज्यूलाइजेशन किया जा सकता था। पूरी वीडियो टीम का शुक्रिया।

खैर मैं तो फिर भी १० में १० दूँगा।

सजीव सारथी का कहना है कि -

यह संयोग ही है की सुबोध युग्म के पहले स्वरबद्ध गीत का हिस्सा था और आज युग्म के पहले विडियो के भी स्टार हैं, लगभग एक साल में सुबोध ने लंबा सफर तय किया है, जब सुबोध ने मुझे इस विडियो का पहला वर्जन दिखाया था, तब मैंने कोई टिपण्णी नही की थी, पर सुबोध ने जैसे मेरे मन की बात समझ ली थी, क्या कोई मानेगा की इसी बुधवार को सुबोध ने कुछ नए शोट शूट किए हैं और एडिट किए हैं, यही एक्स्ट्रा शॉट्स विडियो की जान बन गए हैं this shows that how much u dedicated and committed towards ur work, hats of to u subodh, this is surely one of ur best song till date, need i say anything about gaurav. वो तो युग्म का गौरव हैं, मुझे लगता है की सुबोध और गौरव को टीम बना कर और भी गीत बनाने चाहिए, एक बार फ़िर टीम को बधाई, खुशमिजाज़ मिटटी एक मील का पत्थर है युग्म के संगीत इतिहास में.

janmejay का कहना है कि -

wah!bahut bahut badhai!
yah prayas apekshakrit adhik santoshprad raha,sambhavtah yugm ke sabhi geeton se kum-se-kum itne ki apeksha rahti hi hai.yah geet apekshaon par khara utrta hai!

gaurav solanki ji ko mera namaskaar!behtareen geet likha hai apne.darasal likhne ki yah shaili meri bhi pasandeeda shaili hai,isliye bhi is geet ke bol behad pasand aye.

subodh bhai ka kaam din-b-din aur nikhar kar samne aa raha hai...bahut achhi dhun di hai unhone is geet ko aur gaya bhi lajawab hai.waise is geet ke bhav aur bhi nikhar kar aate agar iski gayki ko thora aur stylish banaya jata,gayak dwaya gate samay kuchh vyaktigat puton ka samavesh aur sundar lagta.

sangeet sanyojan achha hai aur dhun ka sath nibhata hai,lekin kuchh ullekhneey nahi karta,ise aur behtar karne ki awashyakta thi,aisa bhi kuchh jaghon par laga ki jaldi se geet khtm karna hai so vadyon me thori kanjoosi bhi ki gayi.

lekin kul mila kar geet bahut khubsurat ban para hai,jiske liye main awaz team ko daad deta hoon!

ek cheez jo mujhe geet ek-adh bar sun'ne ke baad dhyan me ayi ,uska ullekh karna chahunga:
geet ke bol hain..."खुशमिजाज मिट्टी
पहले उदास थी....तुम जो नहीं थे तो कुछ भी कहाँ था..." tatpary yah ki pehle premika sath nahi thi to aisa tha,lekin ab shayad premika sath me hai.pehle jindgi ajeeb thi,lekin ab to yah khushmijaj hai,fir yah khushmijaji geet se gum kyun hai...geet sun'ne par isme virah ke bhav hi jyada nazar ate hain ,abhi ki khushmijaji ki chahak nazar nahi ati.sambhavtah is hetu video me bhi female lead ka introduce kiya jana awashyak tha,to shayad geet me kahi gayi sahi baat shrotaon tak pahuch pati.waise video achha hai,sarahneey hai,yadyapi rachnatmakta ka abhav hai,lekin pahla prayas hone ke nate nishchay hi puri prashansa ka huqdaar hai.

bas geet me virah ke bhav ko thora kum karke khushmijaji ka put dalne ki awashaykta hai,anyatha geet behtareen hai.bahut sarahneey karya!

anyanek badhai!!

dhanyawaad!

-Janmejay

श्रद्धा जैन का कहना है कि -

wah bhaut bhaut achha laga
isi tarah aap chalte chalte ek din aasmaan par apna naam likh de
yahi dua hai

Manish Kumar का कहना है कि -

पहले तो गौरव जी को एक भावपूर्ण गीत लिखने की बधाई। मुझे बोल पसंद आए।
हाँ जन्मजेय की बात गौर करने की है अगर साथी का ना होना अतीत की बात थी तो फिर अब जब वो साथ है तो गीत में गम का रंग क्यूँ? दरअसल जहाँ जहाँ गीतकार ने 'था' का प्रयोग किया है अगर वहाँ 'है' रहता तो गीत के मूड और भावों से मैच कर जाता।

संगीत संयोजन और गायिकी ठीक ठाक है। कुल मिलाकर अच्छा लगा ये प्रयास !

nesh का कहना है कि -

nice songs with nice viedo.best of luck dost

सुशील कुमार छौक्कर का कहना है कि -

सुन्दर प्यारे बोलों के साथ एक अच्छी प्रस्तुति के लिए आप सभी को मुबारकबाद। जमे रहे, लगे रहे, मिलेगी मंजिल एक दिन।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन