Thursday, December 13, 2007

ज़िंदा हो गया है (कहानी)



हमने पॉडकास्ट ब्लॉग 'आवाज़' की शुरूआत सूरज प्रकाश की कहानी 'एक जीवन समांतर' से की थी। आज कहानी सुनाने के क्रम में हम लाये हैं राजीव रंजन प्रसाद के स्वर में इन्हीं की कहानी 'ज़िंदा हो गया है'। यह कहानी कहानी-कलश पर २६ सितम्बर २००७ को प्रकाशित है।

नीचे ले प्लेयर से सुनें और ज़रूर बतायें कि कैसा लगा?

(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)



यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंकों से डाऊनलोड कर लें (ऑडियो फ़ाइल तीन अलग-अलग फ़ॉरमेट में है, अपनी सुविधानुसार कोई एक फ़ॉरमेट चुनें)

VBR MP3
64Kbps MP3
Ogg Vorbis

फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

श्रोता का कहना है :

sahil का कहना है कि -

aराजीव जी आपकी कहानी पढने का लाभ तो मैं नहीं पा पाया पर आज आपकी ही आवाज मी सुनकर ऐसा लगा मानो कहानी का हर एक पत्र मन मष्तिस्क में जिंदा हो गया है.
बहुत बहुत साधुवाद
साथ ही साथ पोडकास्ट से जुड़े सभी मित्रों को मेरे तरफ़ से धन्यवाद
उनके प्रयासों के कारण ही आज यह सब सम्भव हो पाया है
शुभकामनाओं समेत
आलोक सिंह "साहिल"

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन