Sunday, December 28, 2008

पॉडकास्ट कवि सम्मेलन - दिसम्बर २००८



Doctor Mridul Kirti - image courtesy: www.mridulkirti.com
डॉक्टर मृदुल कीर्ति

कविता प्रेमी श्रोताओं के लिए प्रत्येक मास के अन्तिम रविवार का अर्थ है पॉडकास्ट कवि सम्मेलन। देखते ही देखते पूरा वर्ष कब गुज़र गया, पता ही न लगा. श्रोताओं के प्रेम के बीच हमें यह भी पता न लगा कि आज का कवि सम्मलेन वर्ष २००८ का अन्तिम कवि सम्मलेन है। आवाज़ के सभी श्रोताओं और पाठकों को नव वर्ष की शुभ-कामनाओं के साथ प्रस्तुत है दिसम्बर २००८ का पॉडकास्ट कवि सम्मलेन। इस बार भी इस ऑनलाइन आयोजन का संयोजन किया है हैरिसबर्ग, अमेरिका से डॉक्टर मृदुल कीर्ति ने।

आवाज़ की ओर से हर महीने प्रस्तुत किए जा रहे इस प्रयास में गहरी दिलचस्पी, सहयोग और आपके प्रेम के लिए हम आपके आभारी हैं। हमें अत्यधिक संख्या में कवितायें प्राप्त हुईं और हमें आशा है कि आप अपना सहयोग इसी प्रकार बनाए रखेंगे। इस बार भी हम बहुत सी कविताओं को उनकी उत्कृष्टता के बावजूद इस माह के कार्यक्रम में शामिल नहीं कर सके हैं और इसके लिए क्षमाप्रार्थी है। कुछ कवितायें तो बहुत ही अच्छी थीं मगर वे हमें अन्तिम तिथि के बाद तब प्राप्त हुईं जब हम कार्यक्रम को अन्तिम रूप दे रहे थे। उनके छूट जाने से हमें भी दुःख हुआ है इसलिए हम एक बार फ़िर आपसे अनुरोध करेंगे कि कवितायें भेजते समय कृपया समय-सीमा का ध्यान रखें और यह भी ध्यान रखें कि वे १२८ kbps स्टीरेओ mp3 फॉर्मेट में हों और पृष्ठभूमि में कोई संगीत न हो। ऑडियो फाइल के साथ अपना पूरा नाम, नगर और संक्षिप्त परिचय भी भेजना न भूलें क्योंकि हमारे कार्यक्रम के श्रोता अच्छे कवियों के बारे में जानने को उत्सुक रहते हैं।

प्रबुद्ध श्रोताओं की मांग पर सितम्बर २००८ के सम्मेलन से हमने एक नया खंड शुरू किया है जिसमें हम हिन्दी साहित्य के मूर्धन्य कवियों का संक्षिप्त परिचय और उनकी एक रचना को आप तक लाने का प्रयास करते हैं। इसी प्रयास के अंतर्गत इस बार हम सुना रहे हैं एक ऐसे कवि को जिन्हें कई मायनों में हिन्दी का सर्वमान्य कवि कहा जा सकता है। अपने जन्म के ४७६ वर्ष बाद भी इनकी रचनाएं न सिर्फ़ हिन्दी-भाषियों में बल्कि समस्त विश्व में पढी और गाई जाती हैं। उनकी सुमधुर रचनाओं का आनंद उठाईये।

नीचे के प्लेयर से सुनें:


यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंकों से डाऊनलोड कर लें (ऑडियो फ़ाइल तीन अलग-अलग फ़ॉरमेट में है, अपनी सुविधानुसार कोई एक फ़ॉरमेट चुनें)
VBR MP364Kbps MP3Ogg Vorbis

भूल सुधार: पारुल जी द्वारा गाया गया गीत "भोर भये तकते पिय का पथ ,आये ये ना मेरे प्रियतम, आली" दरअसल श्रीमती लावण्या शाह द्वारा रचित है. लावण्या जी का नाम छूट जाने के लिए हम क्षमाप्रार्थी हैं.
पिछले सम्मेलनों की सफलता के बाद हमने आपकी बढ़ी हुई अपेक्षाओं को ध्यान में रखा है। हमें आशा ही नहीं वरन पूर्ण विश्वास है कि इस बार का सम्मलेन आपकी अपेक्षाओं पर खरा उतरेगा और आपका सहयोग हमें इसी जोरशोर से मिलता रहेगा। यदि आप हमारे आने वाले पॉडकास्ट कवि सम्मलेन में भाग लेना चाहते हैं तो अपनी आवाज़ में अपनी कविता/कविताएँ रिकॉर्ड करके podcast.hindyugm@gmail.com पर भेजें। कवितायें भेजते समय कृपया ध्यान रखें कि वे १२८ kbps स्टीरेओ mp3 फॉर्मेट में हों और पृष्ठभूमि में कोई संगीत न हो। आपकी ऑनलाइन न रहने की स्थिति में भी हम आपकी आवाज़ का समुचित इस्तेमाल करने की कोशिश करेंगे। पॉडकास्ट कवि सम्मेलन के नववर्ष के पहले अंक का प्रसारण २४ जनवरी २००९ को किया जायेगा और इसमें भाग लेने के लिए रिकॉर्डिंग भेजने की अन्तिम तिथि है १७ जनवरी २००९

हम सभी कवियों से यह अनुरोध करते हैं कि अपनी आवाज़ में अपनी कविता/कविताएँ रिकॉर्ड करके podcast.hindyugm@gmail.com पर भेजें। आपकी ऑनलाइन न रहने की स्थिति में भी हम आपकी आवाज़ का समुचित इस्तेमाल करने की कोशिश करेंगे। रिकॉर्डिंग करना कोई बहुत मुश्किल काम नहीं है। हिन्द-युग्म के नियंत्रक शैलेश भारतवासी ने इसी बावत एक पोस्ट लिखी है, उसकी मदद से आप सहज ही रिकॉर्डिंग कर सकेंगे। अधिक जानकारी के लिए कृपया यहाँ देखें।

# Podcast Kavi Sammelan. Part 6. Month: December 2008.

कॉपीराइट सूचना: हिन्द-युग्म और उसके सभी सह-संस्थानों पर प्रकाशित और प्रसारित रचनाओं, सामग्रियों पर रचनाकार और हिन्द-युग्म का सर्वाधिकार सुरक्षित है।

फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

7 श्रोताओं का कहना है :

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` का कहना है कि -

मृदुल जी, अनुराग भाई, पारुल जी द्वारा गाया गया गीत "भोर भये तकते पिय का पथ ,आये ये ना मेरे प्रियतम, आली " मेरी लिखी हुई कविता है - मुझे बहुत खुशी है कि जैसा आपने कहा है, पारुल सुकँठी हैँ और माँ सरस्वती का सँगीत प्रसाद उन्हेँ मिला हुआ है - भाई सत्यनारायण "कमलजी" का गीत अनुराग भाई ने बहुत भाव पूर्ण रीत से सुनाया और अनुराग भाई की स्वयम की कविता भी सुँदर लगी - और डा. मृदुल जी का सँचालन तो हमेशा की भाँति सधी हुई शैली से, विद्वत्ता पूण अभी आधा ही सुन पाई हूँ और सुँदर लगा है - फिर आकर टीप्पणी करुँगी दूसरे सभी कवि साथियोँ को सुन कर -
तब तक आप भी आनँद लीजिये और काव्य सरिता मेँ डूब कर, स्वर्गीय सुख पाइये ~
स स्नेह,
- लावण्या

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` का कहना है कि -

अब पूरा कवि सम्मेलन सुन लिया और स्व. मुकेश जी के स्वर मेँ राम चरित मानस की दोहावली सुनकर अभिभूत हूँ -
मुझे याद है,
पूज्य पापाजी पँडित नरेन्द्र शर्मा जी ने मुकेश जी के साथ इसे तैयार करवाया था -
आज वे दोनोँ सशरीर हमारे साथ नहीँ रहे :-(
अन्य सभी के प्रयास बहुत ज्यादा पसँद आये - डा.मृदुलजी , हिन्दी युग्म से जुडे हरेक श्रोतागणोँ को तथा अनुराग भाई तथा पारुल को पुन: बधाई तथा २००९ के आगामी नव वर्ष की शुभकामनाएँ
स स्नेह
- लावण्या

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन का कहना है कि -

मैंने भी कुछ देर पहले पूरा कार्यक्रम सुना, बहुत अच्छा लगा. लावण्या जी, "भोर भये तकते पिय का पथ..." के बारे में जानकारी देने के लिए आपका आभार. चूक के लिए क्षमाप्रार्थी हैं! मगर सच कहूं तो कविता बहुत ही अच्छी लगी. कार्यक्रम के आरम्भ में समय के बारे में मृदुल जी की भुमिका से लेकर मुकेश के स्वर में गोस्वामी तुलसीदास की रचनाओं तक सम्पूर्ण कार्यक्रम ने पूरी तरह बांधकर रखा. बधाई!

Anonymous का कहना है कि -

आत्‍मीया मृदुल जी
दिसम्‍बर माह के इस भावुक कवि सम्‍मेलन के लिए आपको शुभकामनाएं। अनुराग जी की कविता "मर्म" की दो पंक्तियां - यदि सार्थक करते दिन को तो रातों को यूं रोते न, बह‍ुत कुछ कह गयी। सत्‍यनारायण जी की कविता हांलाकि एक प्रसिद्ध गीत गुबार देखती रही पर आधारित था लेकिन फिर भी ऑंखों को गीली करने वाला था। कवि सम्‍मेलन का प्रारम्‍भ जहॉं आपकी आवाज और आपके चिंतन के साथ था, जिसमें तत्‍काल दर्शी शब्‍द से त्रिकाल दर्शी शब्‍द को कुछ कहे बिना ही परिभाषित कर दिया, तो सम्‍मेलन का समापन मंगल भवन अमंगल हारी से हुआ जो हमें नव वर्ष के लिए आशीर्वाद दे गया। कुल मिलाकर आज का कवि सम्‍मेलन हमेशा की तरह आप के नाम रहा, वहीं अनुराग जी ने अपनी चन्‍द पंक्तियों से मन को जीत लिया। आप सभी को मेरी शुभकामनाएं।
अजित गुप्‍ता
उदयपुर

ajit gupta का कहना है कि -

आत्‍मीया मृदुल जी
दिसम्‍बर माह के इस भावुक कवि सम्‍मेलन के लिए आपको शुभकामनाएं। अनुराग जी की कविता "मर्म" की दो पंक्तियां - यदि सार्थक करते दिन को तो रातों को यूं रोते न, बह‍ुत कुछ कह गयी। सत्‍यनारायण जी की कविता हांलाकि एक प्रसिद्ध गीत गुबार देखती रही पर आधारित था लेकिन फिर भी ऑंखों को गीली करने वाला था। कवि सम्‍मेलन का प्रारम्‍भ जहॉं आपकी आवाज और आपके चिंतन के साथ था, जिसमें तत्‍काल दर्शी शब्‍द से त्रिकाल दर्शी शब्‍द को कुछ कहे बिना ही परिभाषित कर दिया, तो सम्‍मेलन का समापन मंगल भवन अमंगल हारी से हुआ जो हमें नव वर्ष के लिए आशीर्वाद दे गया। कुल मिलाकर आज का कवि सम्‍मेलन हमेशा की तरह आप के नाम रहा, वहीं अनुराग जी ने अपनी चन्‍द पंक्तियों से मन को जीत लिया। आप सभी को मेरी शुभकामनाएं।
अजित गुप्‍ता
उदयपुर

shanno का कहना है कि -

हर बार का कवि सम्मलेन बेहतर होता जा रहा है. और इस बार का तो पिछली बार से भी बहुत सुंदर रहा. मृदुल जी ने अपने सुंदर शब्द-चयन और अपनी कविता से अपनी मृदुल आवाज़ में तो सारे सम्मलेन की शोभा तो खूब बढाई ही हमेशा की तरह अपनी प्रस्तुति से लेकिन लावण्या जी की '' भोर भये..'' कविता पारुल की प्यारी आवाज़ में, अनुराग जी की कवितायें उनकी प्यारी आवाज़ में, शोभा जी की कविता के भाव, और फिर अन्य सभी की कवितातायें भी मन के अंतःकरण को बहुत स्पर्श कर गईं हैं. कुल मिला के यही कह सकती हूँ कि इस कवि सम्मलेन की बहार की खुशबू हमेशा महसूस करूंगी. और सभी कविजनों व सभी श्रोताओं को मेरी तरफ़ से नवबर्ष की ढेर सारी शुभकामनाएं !
शन्नो

सजीव सारथी का कहना है कि -

मृदुल जी पता नही मेरी टिपण्णी वहां क्यों नही आई, खैर मेरे हिसाब से ये एपिसोड अब तक का सबसे बढ़िया एपिसोड रहा, कविताओं में बहुत संजीदगी थी, बीच में शन्नो जी ने अच्छा भरा हास्य का रंग भी, अनुराग जी अंत में आकर बाज़ी मार गए, एक ग़मगीन से आलम से शुरू हुई दास्ताँ एक उम्मीद पर छोड़ती है, आपने एक एक सूत्र को बेहद सफाई से एक दूजे में पिरोया है....नए साल पर हम सब और बेहतर करें यहाँ कामना है

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन