Sunday, August 3, 2008

जुलाई के जादूगरों की पहली भिडंत



जैसा की आवाज़ के श्रोता वाकिफ हैं, कि संगीत का ये दूसरा सत्र जुलाई महीने के पहले शुक्रवार से आरंभ हुआ था और दिसम्बर के अन्तिम शुक्रवार तक चलेगा, इस दौरान रीलीस होने वाले तमाम गीतों में से एक गीत को चुना जाएगा "सत्र का सरताज गीत", लेकिन सरताज गीत बनने के लिए हर गीत को पहले पेश होना पड़ेगा जनता की अदालत में, और फ़िर गुजरना पड़ेगा समीक्षा की परीक्षा से भी, ये समीक्षा करेंगे हिंद युग्म, आवाज़ के लिए संगीत / मीडिया और ब्लॉग्गिंग से जुड़े हमारे वरिष्ट और अनुभवी समीक्षक. हम आपको बता दें, कि समीक्षा के दो चरण होंगे, पहले चरण में ३ निर्णायकों द्वारा, बीते महीने में जनता के सामने आए गीतों की परख होगी और उन्हें अंक दिए जायेंगे, हर निर्णायक के द्वारा दिए गए अंक गीत के खाते में जुड़ते जायेंगे. दूसरे और अन्तिम चरण में, २ निर्णायक होंगे जो जनता के रुझान को भी ध्यान में रख कर अंक देंगे, दूसरे चरण की समीक्षा सत्र के खत्म होने के बाद यानि की जनवरी के महीने में आरंभ होगी, हर गीत को प्राप्त हुए कुल अंकों का गणित लेकर हम चुनेगें अपना - सरताज गीत.

तो "जुलाई के जादूगर" गीतों की पहले चरण की समीक्षा आज से शुरू हो रही है, आईये जानते हैं कि जुलाई के इन जादूगरों को हमारे पहले समीक्षक ने अपनी कसौटी पर आंक कर क्या कहा और कितने अंक दिए हर गीत को.

निर्णायक की नज़र में हिंद युग्म का ये प्रयास -

हिन्द-युग्म” के एक उत्कृष्ट प्रयास के तौर पर युवा गायकों और संगीतकारों को मौका देने के पवित्र उद्देश्य से शुरु हुआ “आवाज़” का सफ़र प्रारम्भ हो चुका है। युग्म ने मुझसे गीतों की समीक्षा का आग्रह किया जिसे मैं टाल नहीं सका। असल में मेरे जैसे “कानसेन” (एक होता है तानसेन, जो अच्छा गाता है और एक होता है कानसेन जो सिर्फ़ अच्छा सुनता है) से गीतों की समीक्षा करवाना कुछ ऐसा ही है जैसे किसी लुहार से नाक में पहनने का काँटा बनवाना.

जुलाई माह के दौरान चार नये गीत “रिलीज़” हुए। चारों गीत युवाओं की टीम ने आपसी सामंजस्य और तकनीकी मदद से बनाये हैं और तकनीकी तौर पर कुछ गलतियाँ नज़र-अंदाज़ कर दी जायें (क्योंकि ये लोग अभी प्रोफ़ेशनल नहीं हैं और साधन भी होम स्टूडियो के अपनाये हैं) तो इन युवाओं की मेहनत बेहद प्रभावशाली लगती है।


गीत समीक्षा

संगीत दिलों का उत्सव है ....

पहला गीत है “संगीत दिलों का उत्सव है…” इसे सजीव सारथी ने लिखा है और निखिल-चार्ल्स की जोड़ी ने इसकी धुन बनाई है। गीत की धुन कहीं धीमी, कहीं तेज लगती है, खासकर शुरुआत में जब मुखड़ा शुरु होने से पहले के वाद्य तो बेहतरीन बजते हैं, लेकिन “बेजान” शब्द ऐसा लगता है कि जल्दी-जल्दी में गा दिया गया हो, “बेजान” शब्द में यदि थोड़ा भी आलाप दिया जाता या उसे थोड़ा सा और लम्बा खींचा जाता तो और भी प्रभावशाली होता, इसी प्रकार दूसरी पंक्ति का अन्तिम शब्द “जब” यह भी जल्दी से समाप्त हुआ सा लगता है और अस्पष्ट सा सुनाई देता है। चूंकि यह अन्तिम शब्द है, जहाँ गीत की एक पंक्ति “लैण्ड” कर रही है और कई बार कर रही है, वह शब्द एकदम साफ़ होना चाहिये। गीत को पहली बार सुनते ही समझ में आ जाता है कि यह किसी दक्षिण भारतीय ने गाया है, क्योंकि हिन्दी उच्चारण का दोष तुरन्त सुनाई दे जाता है, यह नहीं होना चाहिये। कई जगह इस प्रकार की छोटी-छोटी गलतियाँ हैं, लेकिन पहली कोशिश के तौर पर इसे नज़रअंदाज़ किया जा सकता है। मिथिला जी का स्वर भी काफ़ी दबा हुआ सा लगता है, जैसे कि हिचकिचाते हुए गाया गया हो, आवाज में जो खुलापन होना चाहिये वह फ़िलहाल नदारद है। गीत की धुन अच्छी बन पड़ी है और हमें केरल के बैकवाटर में ले जाती है। गीत पर “येसुदास इफ़ेक्ट” को भी साफ़ महसूस किया जा सकता है। कुल मिलाकर देखा जाये तो कुछ बिन्दुओं को छोड़कर गीत को दस में से छः अंक दिये जा सकते हैं।

संगीत दिलों का उत्सव है... को पहले निर्णायक द्वारा मिले 6 /10 अंक, कुल अंक अब तक 6 /10

बढे चलो.

दूसरा गीत है “बढ़े चलो…”, यह गीत अपेक्षाकृत बेहतर बन पड़ा है। संगीतकार ॠषि ने इस पर काफ़ी मेहनत की है, धुन जोशीली है और खासकर ढोल का आभास देती कोरस आवाजें एक उत्साह सा जगाती हैं। गीत में पुरुष आवाज कुछ बनावटीपन लिये हुए है, शायद संगीतकार ने अधिक जोश भरने के लिये गायक की आवाज में परिवर्तन करवाया है, ऐसा प्रतीत होता है। बताया गया है कि यह गीत कुछ छः माह में तैयार हुआ है, जो कि स्वाभाविक भी है, इतने लोगों को विभिन्न जगहों से नेट पर एकत्रित करके इस प्रकार का उम्दा काम निकलवाना अपने आप में एक जोरदार प्रयास है और इसमें पूरी टीम सफ़ल भी हुई है और हमें एक बेहतरीन गाना दिया है। गीत के बोल तो युवाओं का प्रतिनिधित्व करते ही हैं, बीच-बीच में दी गई “बीट्स” भी उत्तेजना पैदा करने में सक्षम हैं। इस गीत को मैं दस में सात अंक दे सकता हूँ।

बढे चलो, को पहले निर्णयक से अंक मिले 7 / 10, कुल अंक अब तक 7 /10.

आवारा दिल.

तीसरा गीत है, “आवारा दिल…”। समीक्षा के लिये प्रस्तुत चारों गीतों में से यह सर्वश्रेष्ठ है। संगीतकार सुभोजित ने इसमें जमकर मेहनत की है। युवाओं को पसन्द आने वाली सिसकारियों सहित, तेज धुन बेहद “कैची” (Catchy) बन पड़ी है। “आवारा दिल” में “ल्ल्ल्ल्ल” कहने का अन्दाज बहुत ही अलहदा है, इसी प्रकार की वेरियेशन अन्य गायकों और संगीतकारों से अपेक्षित है, इस गीत में रोमांस छलकता है, एक साफ़ झरने सा बहता हुआ। सारथी के शब्द भी अच्छे हैं, और गायक की आवाज और उच्चारण एकदम स्पष्ट हैं। हालांकि कई जगह दो लाइनों और दो शब्दों के बीच में साँस लेने की आवाज आ जाती है, लेकिन कुल मिलाकर इस गीत को मैं दस में से आठ अंक देता हूँ।

आवारा दिल, को पहले निर्णायक से मिले 8 / 10, कुल अंक अब तक 8 / 10.


तेरे चेहरे पे ...

आखिरी गीत एक गज़ल है “तेरे चेहरे पे…”। यह गज़ल पूर्णरूप से गज़ल के “मूड” में गाई गई है, निशांत की आवाज़ में एक विशिष्ट रवानगी है, उनका उर्दू तलफ़्फ़ुज़ भी काफ़ी अच्छा है। उनकी आवाज़ को परखने के लिये अभी उनका और काम देखना होगा, लेकिन गज़ल के “मीटर” पर उनकी आवाज़ फ़िट बैठती लगती है। गज़ल के बोलों की बात करें तो यह काफ़ी छोटी सी लगती है, ऐसा लगता है कि शुरु होते ही खत्म हो गई। काफ़िया कहीं-कहीं नहीं मिल रहा, लेकिन इसे नज़र-अंदाज़ किया जा सकता है क्योंकि यह आजकल का “ट्रेंड” है। गज़ल की धुन ठीक बन पड़ी है, हालांकि यह एक “रूटीन” सी धुन लगती है और “कुछ हट के” चाहने वालों को निराश करती है। फ़िर भी यह एक अच्छा प्रयास कहा जा सकता है। इसे मैं दस में से छः अंक देता हूँ।

तेरे चेहरे पे..., को पहले निर्णायक ने मिले 6 /10, कुल अंक अब तक 6 /10

चलते चलते...

जुलाई माह का स्टार सुभोजित / साठे की जोड़ी को घोषित किया जा सकता है, जिन्होंने सर्वाधिक प्रभावित किया है। प्रस्तुत समीक्षा युवाओं को प्रोत्साहित करने के लिये है, जो छोटी-छोटी गलतियाँ गिनाई हैं उन्हें आलोचना नहीं, बल्कि एक स्वस्थ सुझाव माना जाये। युवाओं में जोश है और यही लोग नई तकनीक के पुरोधा हैं सो अगली बार इनसे और बेहतर की उम्मीद रहेगी। जाहिर है कि यह प्राथमिक प्रयास हैं, जैसे-जैसे संगीतकारों में अनुभव आयेगा वे और भी निखरते जायेंगे…

तो दोस्तों पहले निर्णायक के फैसले के बाद सुभोजित / सुबोध के गीत आवारा दिल है अब तक सबसे आगे, लेकिन बाकि दो निर्णायकों के निर्णय आने अभी बाकी हैं, पहले चरण के बाद कौन बाजी मारेगा, अभी कहना मुश्किल है, दूसरे समीक्षक की पारखी समीक्षा लेकर हम उपस्थित होंगे अगले रविवार को. हिंद युग्म, आवाज़ द्वारा संगीत के क्षेत्र में हो रहे इस महाप्रयास के लिए अपना बेशकीमती समय निकल कर, युवा कलाकारों को प्रोत्साहन/ मार्गदर्शन देने के उद्देश्य से आगे आए हमारे समीक्षकों के प्रति हिंद युग्म की पूरी टीम अपना आभार व्यक्त करती है.

फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

7 श्रोताओं का कहना है :

Rishi का कहना है कि -

Firstly I would like to thank HindYugm for taking the efforts to get the song reviewed by learned judges.

I would make a of couple of requests to HindYugm so that the rating can help us in making better compositions:

1.Please provide the parameters on the basis of which, the rating is given. If all the judges can agree upon a set of parameters and let us know the rating under each category, it will help us know the area in which a song is weak, so we can work on that area.

2. I understand that the names of the judges have not been announced for specific reasons.Please provide the atleast the background of the judges (in music) so that we can know the perspective of the judge in rating the song.Every person has his/her own way of analysiing a song. If we know the judges' background we can get an idea of what perspective the judge is likely to look at the song. For example someone with a lot of background in poetry is likely to focus more on the lyrics and less on other factors, even though the he/she may possess knowledge of the other areas of music composition.

Thanks again for providing such wonderfull feedback.

-Rishi

J.M. SOREN'S PAGE-- SANTHALS MUSICIANS GANG का कहना है कि -

I totally agree with Rishi and second the motion. Actually last year i had gone for a competition in which UNFORTUNATELY BANK OF BARODA had appointed a DRUMMER to judge the songs. Surprisingly a lady participant played Celine Dion's Titanic's Hit song..My heart will go on. She was given the first prize. A violinist from Jaipur was given the second. My good friend Mr. Pradeep who played Classical Guitar was nowhere in the scene although he had been the First prize winner in the previous year. What i want to actually insist is that the category was Wester music and the judge i suppose was ignorant of that. So pls kindly make it clear about the taste of the judge and the name need not be disclosed but his background be. Kindly do not take it otherwise

Regards

J.M.SOREN

नियंत्रक । Admin का कहना है कि -

कुछ बातें शायद साफ़ नही हो पाई थी -
जितने भी समीक्षक युग्म से जुड़े हैं, उनमे से कोई भी संगीत की किसी शाखा से सीधे तौर पर नही जुडा है, हमारे सभी समीक्षक शुद्ध समीक्षक ही हैं, इसलिए नाम भी समीक्षा दिया हुआ है. मीडिया, रेडियो और ब्लॉग्गिंग जगत में वर्षों से लिख रहे दिग्गज हैं ये सभी, जो भी रेटिंग होती है गीत की वो एक मुक्कमल असर के आधार पर होती है, जिसमे धुन, संयोजन, गायकी और गीत के बोल सभी शामिल हैं, उदहारण के लिए जब आप किसी फ़िल्म की समीक्षा लिखते हैं तो कोई खास बात अगर अच्छी या बुरी है तो उसकी तारीफ/ बुराई जरूर होती है, मगर जो रेटिंग दी जाती है वो overall फ़िल्म को दी जाती है, जिसमे बहुत से लोग सम्मिलित होते हैं, इसी तरह यदि किसी गीत में कुछ कमी रह जाती है तो भी उसके लिए पूरी टीम जिम्मेदार मानी जाती है.
चूँकि सभी समीक्षक लगभग एक ही कार्य क्षेत्र के हैं. इसलिए हम नही चाहते थे की किसी एक समीक्षक का निर्णय दूसरे को प्रभावित करे, यही कारण था कि हमने उनके नामा गुप्त रखें हैं, कोई भी एक समीक्षक नही जानता की दूसरे समीक्षक कौन हैं, इससे मौलिकता बनी रहेगी, और उत्सुकता भी. ये स्तम्भ पूर्णता मार्गदर्शन के इरादे से शुर किया गया कृपया हर निर्णय को सकारात्मक रूप में लें.

अवनीश एस तिवारी का कहना है कि -

Congrates to सुभोजित / सुबोध and Sajeev.


Avaneesh

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

यह एक बढ़िया प्रयास है। इससे संगीतकार आम श्रोता और ख़ास श्रोता दोनों की कसौटी पर खरा उतर सकेंगे।

सजीव जी,

आपको साधुवाद

BRAHMA NATH TRIPATHI का कहना है कि -

बहुत अच्छा हिंद युग्म दिन पर दिन शिखर पर कदम बढ़ा रहा है
प्रयास सराहनीय है

आलोक शंकर का कहना है कि -

good for us and all. thanks for the great analysis.

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन