Thursday, October 23, 2008

सच्चे सुरों की दुनिया का बाशिंदा है कृष्णा पंडित



निरंतर नई प्रतिभाओं को जब हम इस मंच पर लाते हैं और जब उनके गीत आपके मन के गीत बन जाते हैं वो क्षण हमारे लिए सफलता के होते हैं. भोपाल, मध्य प्रदेश के एक बेहद प्रतिभाशाली गायक संगीतकार कृष्णा पंडित और उनकी पूरी टीम का तैयार किया गया गीत "सूरज चाँद और सितारे..." पिछले सप्ताह आवाज़ पर हम लेकर आए थे जिसे हमारे श्रोताओं ने पसंद किया और सराहा. आज हम आपको मिलवा रहे हैं इसी सूफी ग्रुप के शीर्ष कृष्णा पंडित से, जो हैं हमारे इस हफ्ते के फीचर्ड आर्टिस्ट.

हिंद युग्म - भोपाल जैसे शहर में कैसे बना ये संगीत ग्रुप ?

कृष्णा पंडित : भोपाल शहर में बहुत से कलाकार हैं, हम सब मिलकर और व्यक्तिगत भी काम करते ही रहते थे मैं उस समय ग्रुप में नहीं था. लगभग चार साल पहले चैतन्य दादा के मन में यह विचार आया कि हम जो कुछ भी सोच रहे हैं, कर रहे हैं वह कोई आम कार्य नहीं है और दादा ने इसे अंजाम दे दिया ......


हिंद युग्म- सूफी ही चुना आप सब ने अपने संगीत का माध्यम ?

कृष्णा पंडित : सूफी का मर्म रब की निष्पक्ष इबादत करना है, इसको समझना ही एक परम सुख है फिर निभाने में तो जन्नत का आनंद है, सुगम संगीत भी करते है लेकिन सूफी जान है.



हिंद युग्म- सूरज चाँद और सितारे ...कुछ बताइए हमें इस गीत के बनने की कहानी.

कृष्णा पंडित : यह हमारा पहला गीत नहीं था, दिमाग में कुछ उलझन थी जो यह कह रही थी कि लोग रब को कैसे कैसे पाना चाहते हैं वह केवल पूजा, अर्चना, मस्जिद में या मंदिर में नहीं, रब तो कुछ और ही है वो प्यार है, वो हर जगह है , खुशी में ,जंगल में , हम में, आप में बस यह विचार कई महीनो तक पनपता रहा फिर संजय ने इसे शब्द दिए और बन गया "मैं इबादत करूँ या मोहब्बत करूँ ..............."

हिंद युग्म - क्या आपने अपने ग्रुप का कोई नाम नही सोचा अब तक ?

कृष्णा पंडित : जी बिलकुल "मार्तण्डया बैंड".

हिंद युग्म - वाह हम दुआ करेंगे कि अपने नाम के अनुरूप आपका ये संगीत गठबंधन आने वाले समय में सूरज के मानिंद चमके. अच्छा अपने बारे में कुछ विस्तार में बताइए.

कृष्णा पंडित : मेरा जन्म २५ अक्टूबर १९८३ फरीदाबाद जिले के मंद्कोला ग्राम में एक सामान्य परिवार में हुआ मेरे पिता श्री जीवनलाल शर्मा मेरे जन्म के बाद मुझे, मेरे बड़े भाई हरीश और मेरी माँ श्री मति पुष्पलता को लेकर भोपाल आगये, मेरी १२ वीं तक शिक्षा यहीं मंडीदीप में हुई, इसके बाद मैंने २००३ में हरदा से डिप्लोमा इन इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग किया, फिर २००५ में मैंने बॉम्बे जाकर काम की तलाश की, एडिटिंग सीखी, मेरी रूचि बचपन से ही संगीत में थी मैंने २००१ से विधिवत शिक्षा लेनी शुरू की, मेरे गुरु श्री पं.मुकेश सावनेर, श्री पं. सजन लाल भट्ट हैं. मैंने कुछ सालो तक घर पर ही काम किया फिर मुंबई ,चैतन्य भट्ट जी के साथ कर रहा हूँ.

हिंद युग्म - हिंद युग्म से जुड़कर कैसा लग रहा है.

कृष्णा पंडित : हिंद युग्म से जुड़कर एक नया उत्साह मिला है जिन्दगी में हर स्टेज पर कुछ न कुछ मिलता है पर कुछ ऐसे भी होते हैं जो बहुत कुछ दे जाते है हिंद युग्म कोई सामान्य कार्य नहीं महज़, नए युग की एक नई सोच एक महा प्रयास है. हम बहुत आभारी हैं कि उन्होंने हमें यह अमूल्य सम्मान दिया....

हिंद युग्म - ये तो शुरुआत हुई आगे के लिए क्या क्या योजनायें हैं.

कृष्णा पंडित : आगे वहुत कुछ मिलेगा. एक फिल्म के लिए बात चल रही है, २०१० सुखद होगा, नए और अच्छे लोगों के लिए सदैव तत्पर हूँ. हम हिंद युग्म से निरंतर जुड़े रहेंगे. आशा है सबका सहयोग मिलेगा ...........

संगीत की दुनिया को लक्ष्य कर अपनी मंजिल की तलाश में निकले सुरों के नए मुसाफिर हैं कृष्णा पंडित. इनकी प्रतिभा से हमारे श्रोता भी अब परिचित हो चुके हैं. आने वाले समय के इन सुरीले योद्धाओं का आज हम अभिषेक करें. हिंद युग्म परिवार की तरफ़ से कृष्णा पंडित और उनके तमाम संगीत संगियों को ढेरों शुभकामनायें. आप सब सफलता की नई बुलंदियां इजाद करें इसी कामना के साथ आईये सुनें एक बार फ़िर मस्तियों में डुबो देने वाला ये ताज़ा गीत "सूरज चाँद और सितारे..."




आप भी इसका इस्तेमाल करें

संपर्क :
कृष्णा पंडित
मोब.
+91 9977400522,
+91 9977220043.
ईमेल :
kisna.world@yahoo.com,
kisna.world@gmail.com,
www.krishnapandit.blogspot.com

फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

2 श्रोताओं का कहना है :

सजीव सारथी का कहना है कि -

कृष्ण से मैं मिला जब वो दिल्ली आया बहुत ही सुरीला लड़का है संगीत के लिए समर्पित, आने वाला कल ऐसे ही नौजवानों का है मेरी सारी शुभकामनायें कृष्ण और उसकी पूरी टीम के साथ है

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

मुझे आशा ही नहीं वरन पूरा विश्वास है कि आप हिन्द-युग्म से सदैव जुड़े रहेंगे। आपको जीवन में कामयाबी मिले, हमारी शुभकामनाएँ।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन