Monday, September 21, 2009

हाँ मैं जितनी मर्तबा तुझे हूँ देखता....के के की गायिकी ने भरा इस गीत में नया जोशो-खरोश



ताजा सुर ताल (23)

ताजा सुर ताल में आज में आज सुनिए प्रीतम का जोरदार संगीत और कुमार के बोल के के की जोशीली आवाज़ में

सुजॉय - सजीव, ऑल दि बेस्ट!

सजीव- क्या मतलब? किस बात के लिए?

सुजॉय- नहीं, मैन तो आज के फ़िल्म की बात कर रहा था।

सजीव- हाँ ज़रूर हम आज की नई फ़िल्म को ऑल दि बेस्ट कहेंगे, लेकिन सुजॉय, उससे पहले फ़िल्म का नाम तो बताओ कि किस फ़िल्म के लिए तुम ऑल दि बेस्ट कह रहे हो?

सुजॉय- वही तो, हमारी आज की फ़िल्म का नाम ही है 'ऑल दि बेस्ट'। रोहित शेट्टी की नई फ़िल्म 'ऑल दि बेस्ट'।

सजीव- मैने भी सुन रख है इस फ़िल्म के बारे में। 'गोलमाल', 'गोलमाल रिटर्ण्स' और 'संडे' जैसी यूथफ़ुल फ़िल्मों के बाद अब बारी है 'ऑल दि बेस्ट' की। जिस तरह से बाक़ी के तीन फ़िल्मों में मस्ती, मसाला और धमाल मुख्य भूमिका में रहे हैं, मुझे लगता है कि यह फ़िल्म भी उसी जॉनर की ही होगी, तुम्हारा क्या ख़्याल है?

सुजॉय- बिल्कुल, प्रोडक्शन हाउस की हिस्ट्री और यह बात कि प्रीतम है इसके संगीतकार, तो ज़ाहिर बात है कि इस फ़िल्म के संगीत से भी लोगों को उसी मस्ती, मसाले और धमाल की उम्मीदें रखनी चाहिए।

सजीव- फ़िल्म के कलाकार हैं संजय दत्त, अजय देवगन, फ़रदीन ख़ान, बिपाशा बासू, मुग्धा गोडसे प्रमुख। गानें लिखे हैं कुमार ने।

सुजॉय- सजीव, इस फ़िल्म का कौन सा गीत चुना जाए ताजा सुर ताल के लिए?

सजीव- अजय देवगन और बिप्स पर फ़िल्माया "मर्तबा" गीत इन दिनों काफ़ी चल रहा है, तो क्यों ना इसे ही आज सुनें!

सुजॉय- ठीक है, के.के और याशिता की आवाज़ों में यह गीत रॉक जॉनर का गीत है, गीत को सुनते हुए 'रॉक ओं' के शीर्षक गीत की थोड़ी सी याद भी आ जाती है। प्रील्युड म्युज़िक में एक ज़बरदस्त रॉक म्युज़िक की झलक है,

सजीव- बिल्कुल, 'हेवी बेस' के इस्तेमाल से यह रॊक एटिट्युड आया है गीत में। के. के. हमेशा से ही इस तरह के गीतों को सही अंजाम देते आए हैं। के. के. की सब से बड़ी बात यह है कि इस तरह के 'पावरफ़ुल' गानें भी बख़ूबी निभाते हैं, और दूसरी तरफ़ नर्मोनाज़ुक रोमांटिक गीतों में भी उनका एक अलग ही अंदाज़ नज़र आता है। बहुत ही उर्जा से भरी गायिकी है उनकी इस गीत में भी.

सुजॉय- सही कहा, 'ओम् शांती ओम्' में "आँखों में तेरी अजब सी अजब सी अदाएँ है" इसी तरह का नर्मोनाज़ुक गीत है। और आज के इस प्रस्तुत गीत में उनकी आवाज़ का दूसरा सिरा सुनाई देता है।

सजीव- नई गायिका याशिता ने भी उनका अच्छा साथ दिया है और रॉक गायकी के लिए पूरा पूरा न्याय किया है उनकी आवाज़ ने भी।

सुजॉय- और गीतकार कुमार के लिए यही कहूँगा कि पिछले कुछ सालों में कई हिट गीत दिए है, लेकिन उन्होने अपना थोड़ा सा 'लो प्रोफ़ाइल' ही मेंटेन किया है। सिचुयशन और गीत की रॉक शैली को ध्यान में रखते हुए बहुत ही अच्छे बोल इस गीत के लिए लिखे हैं, और प्रीतम ने भी अच्छा ट्रीटमेंट दिया है गाने को।

सजीव- कुल मिलाकर, गीत, संगीत और गायकी अच्छी है, और शायद इसी वजह से इसका एक रीमिक्स वर्ज़न भी है ऐल्बम में। यकीनन, यह गीत इस साल के टॉप २० गीतों की फ़ेहरिस्त में शामिल होना चाहिए, कुमार के लिए श्याद ये उनकी सबसे बड़ी फिल्म है अब तक, और मौके को समझ कर भी शायद उन्होंने अब तक अपना सर्वश्रेष्ठ काम दिखाया है इस गीत में देखते हैं इस गीत के बाद इंडस्ट्री में उनके लिए क्या नए प्रोसोएक्ट बनते हैं! तो तुम कितने अंक दे रहे हो इस गीत को?

सुजॉय- गीत के सभी पक्षों को देखते हुए मैं इसे ४.५ अंक दे रहा हूँ। एक जो 'ओवर-ऒल' वाली बात है ना, वह इस गीत में है। सारी चीज़ों को एक साथ लेकर अगर हम देखें तो यह गीत पर्फ़ेक्ट है। आगे जनता की राय सर आँखों पर!!

सजीव - ठीक है दोस्तों तो अपने स्पीकर्स की आवाज़ ज़रा तेज़ कर दीजिये और झूमने को तैयार हो जाईये



आवाज़ की टीम ने दिए इस गीत को 4.5 की रेटिंग 5 में से. अब आप बताएं आपको ये गीत कैसा लगा? यदि आप समीक्षक होते तो प्रस्तुत गीत को 5 में से कितने अंक देते. कृपया ज़रूर बताएं आपकी वोटिंग हमारे सालाना संगीत चार्ट के निर्माण में बेहद मददगार साबित होगी.

क्या आप जानते हैं ?
आप नए संगीत को कितना समझते हैं चलिए इसे ज़रा यूं परखते हैं.एक मशहूर आस्ट्रेलियन पॉप गायिका ने किस हिंदी फिल्म के लिए गीत गाया है, और कौन है इस ताजा गीत के गीतकार-संगीतकार...बताईये और हाँ जवाब के साथ साथ प्रस्तुत गीत को अपनी रेटिंग भी अवश्य दीजियेगा.

पिछले सवाल का सही जवाब नहीं मिला सीमा जी और मंजू जी ने जाने क्या जवाब दिया कुछ समझ नहीं आया :), मनीष जी गीत पसंद आये या न आये....आप आये तो सही इस बहाने


अक्सर हम लोगों को कहते हुए सुनते हैं कि आजकल के गीतों में वो बात नहीं. "ताजा सुर ताल" शृंखला का उद्देश्य इसी भ्रम को तोड़ना है. आज भी बहुत बढ़िया और सार्थक संगीत बन रहा है, और ढेरों युवा संगीत योद्धा तमाम दबाबों में रहकर भी अच्छा संगीत रच रहे हैं, बस ज़रुरत है उन्हें ज़रा खंगालने की. हमारा दावा है कि हमारी इस शृंखला में प्रस्तुत गीतों को सुनकर पुराने संगीत के दीवाने श्रोता भी हमसे सहमत अवश्य होंगें, क्योंकि पुराना अगर "गोल्ड" है तो नए भी किसी कोहिनूर से कम नहीं. क्या आप को भी आजकल कोई ऐसा गीत भा रहा है, जो आपको लगता है इस आयोजन का हिस्सा बनना चाहिए तो हमें लिखे.

फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

4 श्रोताओं का कहना है :

विश्व दीपक ’तन्हा’ का कहना है कि -

गायिका: काईली मेनोग
फिल्म: ब्लू
गीतकार: अब्बास टायरवाला
संगीतकार: ए आर रहमान
गीत: चिगी विगी

यह गीत के०के० की आवाज़ और "मर्तबा" शब्द के इस्तेमाल के कारण भायी। मेरी रेटिंग: ३/५

Manju Gupta का कहना है कि -

दीपक जी के जवाब ही मेरा जवाब है .मैं रेटिंग ३ /५ दूंगी

seema gupta का कहना है कि -

काईली मेनोग

regards

Shamikh Faraz का कहना है कि -

मैं रेटिंग दूंगा ३/५

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन