Tuesday, December 8, 2009

मुंजल और रूमानी की प्रेम कहानी, मधुर गीतों की जुबानी- वेब रेडियो की ताज़ा पेशकश



गुनगुनाते लम्हे- 3

गुनगुनाते लम्हें, यानी इन्टरनेट पर वेब रेडियो की नयी पहल, आवाज़ की इस पेशकश से अब तक आप सब श्रोता बखूबी परिचित हो चुके हैं. एक बार फिर आया माह का पहला मंगलवार और एक नयी गीतों भरी कहानी लेकर हाज़िर है हमारी टीम, गुनगुनाते लम्हें की तीसरी कड़ी में. मुंजल और रूमानी के प्रेम की ये दास्ताँ सुनिए कुछ बेहद कर्णप्रिय गीतों के संग, आवाज़ है एक बार फिर अपराजिता कल्याणी की और तकनीकी संचालन है खुशबू का. इस बार कि कहानी श्री अभय कुमार सिन्हा ने लिखी है.

प्रसारण का कुल समय है १९.०१. उम्मीद है हमारी ये पेशकश आपकी सुबह को नयी उर्जा से भर देगी, तो बस प्ले पर क्लिक कीजिये और हमारी इस प्रस्तुति का आनंद लीजिये.



'गुनगुनाते लम्हे' टीम
आवाज़/एंकरिंगकहानीतकनीक
Aprajita KalyaniRenu SinhaKhushboo
अपराजिता कल्याणीअभय कुमार सिन्हाखुश्बू

फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

6 श्रोताओं का कहना है :

indu puri का कहना है कि -

अपराजिता -खुशबु ,
मैंने सुबह hi आपकी गीतों भरी कहानी सुन ली थी ,मेरा मेसेज आपको दस बजे से पहले मिल भी गया होगा
जानी पहचानी कहानी, शानदार प्रस्तुती और खूबसूरत गानों के साथ मिल कर प्यारी सी बन गई थी ,हमारेयहाँ तो इस रूमानी की राईटिंग अच्छी है , हमारे मंजुल का लिखा हमारा मंजुल hi पढ़ सकता है
ये बताओ इन खूबसूरत गीतों को सलेक्ट कौन करता है ? 'भुला नही देना जी ...''
कैसे भुला सकते हैं बाबा न आपको अ आपकी गीतों भरी कहानी और उसको कहने के अंदाज को , क्योकि ..''जलाते हैं जिसके लिए ;मेरी' आँखों के दीए ढूंढ लाइ हो वही गीत तुम ;मेरे' लिए
मिस्त्र सिन्हा और दोनों स्वीट डॉल्स के s

indu puri का कहना है कि -

अपराजिता -खुशबु ,
मैंने सुबह hi आपकी गीतों भरी कहानी सुन ली थी ,मेरा मेसेज आपको दस बजे से पहले मिल भी गया होगा
जानी पहचानी कहानी, शानदार प्रस्तुती और खूबसूरत गानों के साथ मिल कर प्यारी सी बन गई थी ,हमारेयहाँ तो इस रूमानी की राईटिंग अच्छी है , हमारे मंजुल का लिखा हमारा मंजुल hi पढ़ सकता है
ये बताओ इन खूबसूरत गीतों को सलेक्ट कौन करता है ? 'भुला नही देना जी ...''
कैसे भुला सकते हैं बाबा न आपको अ आपकी गीतों भरी कहानी और उसको कहने के अंदाज को , क्योकि ..''जलाते हैं जिसके लिए ;मेरी' आँखों के दीए ढूंढ लाइ हो वही गीत तुम ;मेरे' लिए
मिस्त्र सिन्हा और दोनों स्वीट डॉल्स के s

सजीव सारथी का कहना है कि -

is baar story kuch khaas nahi rahi, haan songs sabhi bahut badhiya the, aprita ji u rock :)

Belu का कहना है कि -

aapki kahani behad pasand ayi:)..Renu Sinha.

Belu का कहना है कि -

aapki kahani me achchi, meethi yaadein hai...geeton ka chunav bahut sundar hai...Renu Sinha.

Suman का कहना है कि -

nice

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन