Thursday, December 25, 2008

सुनिए हरिवंश राय बच्चन की बाल कविता 'रेल'



बच्चो,

पिछले सप्ताह से आपके लिए नीलम आंटी कविताओं को सुनाने का काम कर रही हैं। हरिवंश रा बच्चन की कविता 'गिलहरी का घर' आप सभी ने बहुत पसंद किया। आज सुनिए बच्चन दादा की ही कविता 'रेल'। ज़रूर बताइएगा कि कैसा लगा?



Baal-Kavita/Harivansh Rai Bachchan/Rail

फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

4 श्रोताओं का कहना है :

राज भाटिय़ा का कहना है कि -

बहुत सुंदर लगी.
धन्यवाद

सजीव सारथी का कहना है कि -

bahut badhai hai neelam ji

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

नीलम जी,

जब आप कविता के अंत में 'छुक-छुक, छुक-छुक' बोलती हैं तो सुनने वाले का मन बच्चा हो जाता है। मेरा तो इरादा है कि बच्चन जी का पूरा बाल-कविता-संग्रह 'नीली चिड़िया' को ही आप आवाज़ दे दीजिए धीरे-धीरे, एक-एक करके।

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन का कहना है कि -

मनभावन!

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन