Monday, December 6, 2010

चली राधे रानी, आँखों में पानी....भक्ति और प्रेम का समावेश है ये गीत



ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 542/2010/242

"With his very first film Udayer Pathe (Hamrahi in Hindi), Bimal Roy was able to sweep aside the cobwebs of the old tradition and introduce a realism and subtely that was wholly suited to the cinema. He was undoubtedly a pioneer. He reached his peak with a film that still reverberates in the minds of those who saw it when it was first made. I refer to Do Bigha Zamin, which remains one of the landmarks of Indian Cinema."~ Satyajit Ray

सत्यजीत रे के इन उद्गारों के साथ 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की आज की महफ़िल की हम शमा जला रहे हैं। बिमल रॊय के फ़िल्मी सफ़र की कहनी कल आकर रुकी थी न्यु थिएटर्स में उनके द्वारा किए गये छायांकन वाले फ़िल्मों तक। इस तरह से तक़नीकी सहायक के रूप में कार्य करने के बद बिमल दा को पहली बार फ़िल्म निर्देशन का मौका मिला सन् १९४४ में, और वह बंगला फ़िल्म थी 'उदयेर पौथे' (उदय के पथ पर)। इसी फ़िल्म का हिंदी में अगले ही साल निर्माण हुआ जिसका शीर्षक रखा गया था 'हमराही'। यह फ़िल्म श्रेणी विभाजन (class discrimination) के मुद्दे को लेकर बनाई गई थी। 'उदयेर पौथे' बंगाल में बहुत ज़्यादा चर्चित हुई थी क्योंकि उस समय इतनी ज़्यादा तकनीकी रूप से विकसीत फ़िल्म नहीं बनी थी बंगला में। बिमल दा निर्देशित ४० के दशक की दो और बंगला फ़िल्में हैं - अंजानगढ़ (१९४८) और 'मंत्रमुग्ध' (१९४९)। 'अंजानगढ़' को हिंदी में भी उसी साल बनाया गया था। १९५० में न्यु थिएटर्स ने नेताजी सुभाषचन्द्र बोस और उनके 'आज़ाद हिंद फ़ोर्स' को लेकर एक फ़िल्म निर्देशित की 'पहला आदमी', जिसके संगीतकार थे आर. सी. बोराल। इसी विषय को लेकर इसी साल बम्बई में फ़िल्मिस्तान ने बनाई 'समाधि'। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान बंगाल का राजनैतिक दृश्य कुछ ऐसा हो गया था कि वहाँ कि फ़िल्म कंपनियाँ बंद होने के कगार पर आ गई थी। ऐसे में बहुत से बड़े कलाकार बम्बई स्थानांतरित हो गए। बिमल रॊय भी उन्हीं में से एक थे। बम्बई आकर बिमल दा बॊम्बे टॊकीज़ से जुड़ गए और १९५२ में उन्होंने दो फ़िल्में निर्देशित कीं - 'मोरध्वज' और 'माँ'। इन दोनों फ़िल्मों में संगीत एस. के. पाल का था। वह बॊम्बे टॊकीज़ का अंतिम समय था। इसलिए बिमल दा ने यह निर्णय लिया कि ख़ुद की एक फ़िल्म कंपनी खोली जाए। और इस तरह से स्थापना हुई 'बिमल रॊय प्रोडक्शन्स' की। इस बैनर की पहली फ़िल्म हेतु बिमल दा ने एक कम बजट की फ़िल्म बनाने की सोची। इसलिए अपने कलकत्ते के तीन और दोस्त - सलिल चौधरी, नवेन्दु घोष और असित सेन, इन सबों को लेकर सलिल चौधरी की उपन्यास 'रिक्शावाला' पर आधारित 'दो बीघा ज़मीन' बनाने की योजना बनाई। उसके बाद क्या हुआ, यह इतिहास बन चुका है। १९५३ में बनी 'दो बिघा ज़मीन' के बारे में एक बार बताया था सलिलदा की बेटी अंतरा चौधरी ने जिसे हमने आप तक पहुँचाया था 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की ९१-वीं कड़ी में। इसलिए आज उसे यहाँ नही दोहरा रहे हैं। बल्कि सीधे बढ़ जाते हैं उनकी अगली फ़िल्म 'परिणीता' पर।

इसी साल १९५३ में बिमल दा ने 'परिणीता' का निर्देशन किया था, लेकिन यह 'बिमल रॊय प्रोडक्शन्स' की प्रस्तुति नहीं थी। अभिनेता अशोक कुमार, जिनका हिमांशु राय और देविका रानी के साथ बहुत अच्छा संबंध था, हमेशा चाहा कि बॊम्बे टॊकीज़ अपनी आर्थिक समस्याओं से बाहर निकले, और इस मकसद से उन्होंने कुछ फ़िल्में प्रोड्युस की। हालाँकि इन फ़िल्मों को सफलता ज़रूर मिली, लेकिन बॊम्बे टॊकीज़ में चल रहे अस्थिरता को ख़त्म नहीं कर सके और १९५२ में बॊम्बे टॊकीज़ में हमेशा के ताला लग गया। अशोक कुमार ने फिर अपनी निजी कंपनी 'अशोक कुमार प्रोडक्शन्स' की नींव रखी और इस बैनर तले पहली फ़िल्म 'परिणीता' का निर्माण किया। शरतचन्द्र चट्टोपाध्याय की मशहूर उपन्यास पर आधारित इस फ़िल्म में मीना कुमारी शीर्षक भूमिका में नज़र आईं थीं और साथ में थे अशोक कुमार और नासिर हुसैन। इस फ़िल्म का एक मुख्य आकर्षण बिमल रॊय का निर्देशन भी था। दादामुनि अशोक कुमार ने बाद में बिमल दा की शान में ये शब्द कहे थे - "In my long experience in this industry I really have not come across another director like Bimal Roy… such commitment to cinema, to perfection. I regret we have few like him today." गायक अरुण कुमार मुखर्जी, जो अशोक कुमार के मौसेरे भाई थे, और अशोक कुमार का प्लेबैक करने के लिए जाने जाते थे ('बंधन', 'झूला', 'क़िस्मत' जैसी फ़िल्मों में इन्होंने दादामुनि के लिए गाया था), तो दादामुनि ने अरुण कुमार को 'परिणीता' में सगीत देने का मौका दिया। भरत व्यास का लिखा और मन्ना डे का गाया इस फ़िल्म का सब से लोकप्रिय गीत था "चले राधे रानी अखियों में पानी, अपने मोहन से मुखड़ा मोड़ के"। इसके अलावा इस फ़िल्म में आशा भोसले ने "गोरे गोरे हाथों में मेहंदी", "कौन मेरी प्रीत के पहले जो तुम" तथा किशोर दा के साथ एक युगल गीत "ऐ बंदी तुम बेगम बनो" गाया था। गीता रॊय की आवाज़ में "चांद है वही सितारें वो ही, गगन फिर भी क्यों उदास है" भी एक सुंदर रचना है। लेकिन फ़िल्म का सब से लोकप्रिय गीत "चले राधे रानी" ही है, और इसीलिए आज हम आपको यही गीत सुनवा रहे है, सुनिए...



क्या आप जानते हैं...
कि अरुण कुमार का ६ दिसम्बर १९५५ को दिल का दौरा पड़ने से असामयिक निधन हो गया था जब वे अशोक कुमार के साथ फ़िल्म 'बंदिश' का ट्रायल शो देख कर कार में वापस लौट रहे थे। यह भी अजीब इत्तेफ़ाक़ की बात है कि जिस अशोक कुमार ने उन्हें फ़िल्मों में अवसर दिलाया, उन्हीं की गोद में सिर रख कर उनका निधन हुआ।

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. हर १० अंकों की शृंखला का एक विजेता होगा, और जो १००० वें एपिसोड तक सबसे अधिक श्रृंखलाओं में विजय हासिल करेगा वो ही अंतिम महा विजेता माना जायेगा. और हाँ इस बार इस महाविजेता का पुरस्कार नकद राशि में होगा ....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली ०३ /शृंखला ०५
गीत की एक झलक सुनिए-


अतिरिक्त सूत्र - बिमल रॉय की एक और नायाब फिल्म.

सवाल १ - गायिका पहचानें - २ अंक
सवाल २ - गीतकार बताएं - १ अंक
सवाल ३ - संगीतकार का नाम बताएं - १ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
श्याम कान्त जी को २ अंक और इंदु-रोमेंद्र जी को १-१ अंक की बधाई, इंदु जी और रोमेंद्र जी दोनों ही नियमित नहीं रह पाते और अगर अवध जी भी सही समय पर पहुँच पायें तो मुकाबला और दिलचस्प बन जायेगा.

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

5 श्रोताओं का कहना है :

ShyamKant का कहना है कि -

Singer(s): Mubarak Begum

इंदु पुरी गोस्वामी का कहना है कि -

sahir ludhiyaanvi hii''''' haale dil sunaayenge suniye ki na suniye
ha ha

रोमेंद्र सागर का कहना है कि -

film : देवदास

रोमेंद्र सागर का कहना है कि -

क्या खूब फिल्म की याद दिला दी. देवदास तो और भी बनी ...बँगला भी देखी मगर 1955 में बनी इस दिलीप कुमार की देवदास का जवाब अब तक कोई नहीं दे सका है ! और दे भी नहीं पायेगा - पक्का है !

" तेरी बेरुखी के सदके मेरी ज़िंदगी की खुशियाँ , तू अगर इसी में खुश है तो ख़ुशी से कर जफ़ायें ..."

इंदु पुरी गोस्वामी का कहना है कि -

सुजॉय! आप ये आरोप मुझ पर नही लगा सकते कि मैं नियमित नही रह पाती.अरे पहले सर्वे मे ड्यूटी लगी थी यानी मई माह मे.लगातार काम आता रहा और अपने रिकोर्ड के अनुसार मैंने कभी किसी प्रकार की जिम्मेदारी से इनकार नही किया.ना कभी ड्यूटी चेंज करवाई.मानोगे मेरे पापा के देहांत के दुसरे दिन मैं प्लस पोलियो की अपनी ड्यूटी करने स्कूल पहुँच गई क्योंकि नही चाहती थी कि 'किसी भी शिक्षक की लापरवाही से कोई बच्चा छूट जाए और वही इस रोग का शिकार हो जाए.ईश्वर कैसे माफ करता मुझे ?
फिर....बेटे और बेटी की शादी मे बिजी हो गई.इसके सिवा जब भी मुझे समय मिला जवाब भले ही नही दिए.पर..आवाज को कभी नही भुलाया.है कि नही?
मुझ से दूर कोई जाना चाहे तो भी नही जा सकता .क्या करूं ? ऐसिच हूँ मैं.

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन