Sunday, May 8, 2011

जानू जानूं रे काहे खनके है तोरा कंगना.....आपसी छेड़ छाड और गीत में गूंजते हँसी ठहाके



ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 651/2011/91

'ओल्ड इस गोल्ड' के दोस्तों, नमस्कार! मनुष्य मन अपनी हर अनुभूति को किसी न किसी तरह से व्यक्त करता है। दुख में आँसू, सुख में हँसी, और अशांत मन में कभी कभी क्रोध उत्पन्न होती है। इनमें से जो सब से हसीन अभिव्यक्ति है, वह है हमारी मुस्कान, हमारी हँसी। कहा जाता है कि एक छोटी सी मुस्कान दो दिलों के बीच पनप रही दूरी को पलक झपकते ही ख़त्म देने की शक्ति रखता है। सच में बड़ा ही संक्रामक होता है यह हास्य रस। हास्य रस, यानी कि ख़ुशी के भाव जो अंदर से हम महसूस करते हैं। बनावटी हँसी को हास्य रस नहीं कहा जा सकता। हास्य रस इतना संक्रामक होता है कि आप इस रस को अपने आसपास के लोगों में भी पल में आग की तरह फैला सकते हैं। सीधे सरल शब्दों में हास्य का अर्थ तो यही होता है कि ख़ुश होना, जो चेहरे पर हँसी या मुस्कुराहट के ज़रिए खिलती है, लेकिन जो शुद्ध हास्य होता है वह हम अपने अंदर बिना किसी कारण के ही महसूस करते हैं। और यह भाव तब उत्पन्न होती है जब हम यह समझ या अनुभूति कर लेते हैं कि ईश्वर या जीवन हम पर मेहरबान है। इस तरह का हास्य एक दैवीय रस होता है, जिसे एक दैवीय तृप्ति भी कह सकते हैं। लेकिन दोस्तों, केवल हँसना ही हास्य रस नहीं होता। कभी कभी तो हम अपने आप पर भी हँसते हैं, दूसरों पर भी हँसते हैं, अपने दुख-तकलीफ़ों पर भी हँसते हैं। लेकिन इनको तो हास्य रस नहीं कहा जा सकता न? फ़िल्म संगीत में भी हास्य रस का चलन शुरु से ही रहा है, और इस रस पर असंख्य गीत भी बनें हैं। लेकिन यह जो चर्चा जारी है, यह हास्य रस की नहीं, बल्कि हँसी की है। पिछले आठ दशकों में कई गीत ऐसे बने हैं जिनमें गायक या अभिनेता की हँसी गीत में सुनाई पड़ी है या फिर उनकी मुस्कुराहट महसूस की जा सकती है, चाहे हास्य रस के प्रसंग में हो या फिर किसी और प्रसंग में। ऐसे ही कुछ गीतों को संजो कर हम आज से 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की नई लघु शृंखला शुरु कर रहे हैं 'गान और मुस्कान'। इसमें शामिल होने वाले गीत ज़रूरी नहीं कि हास्य रस के हों, लेकिन गीत में आप गायक/गायिका की हँसी ज़रूर सुन पायेंगे, जो कभी आपको गुदगुदा जायेंगे और एक आध गीत में दर्द का आभास भी करा जायेंगे।

'गान और मुस्कान' शृंखला का पहला गीत एक फ़ीमेल डुएट है। अक्सर सखी सहेलियों में हँसी-मज़ाक होता हैं, नोक-झोक, मीठी तकरारें, एक दूसरे की खिंचाई, छेड़-छाड़, ये सभी लड़कियों की मनपसंद चीज़ें हैं। और आज के इस गीत में भी यही सब कुछ आप महसूस कर सकते हैं। गायिका गीता दत्त और आशा भोसले की युगल आवाज़ों में यह है १९५९ की फ़िल्म 'इंसान जाग उठा' का गीत "जानू जानू री काहे खनके है तोरा कंगना"। शैलेन्द्र के बोल और सचिन देव बर्मन का संगीत। गीत के हर अंतरे के आख़िर में इन गायिकाओं की हँसी सुनाई देती है, जो इस गीत मे चार चांद लगाती हैं। दोस्तों, किसी भी गीत में गायक का ब्रेथ-कंट्रोल एक अहम पहलु हुआ करती है। कहाँ पे सांस लेना है, कहाँ पे सांस छोड़ना है, यह बहुत ही ज़रूरी है जानना। अब इस गीत को ही ले लीजिये। अंतरा और अंतरे से वापस मुखड़े पे आने वाली जगह पे सांस लेने की कोई गुंजाइश नहीं थी क्योंकि उसी जगह पर हँसना भी था। इस समस्या का समाधान भी बर्मन दादा नें ही निकाला, और गायिकाओं को सुझाव दिया कि हँसी को इस तरह से हँसे कि उसी में सांस छोड़ कर सांस ले भी लें। आप गीत सुनते हुए महसूस करेंगे कि हँसते हुए सांस छोड़ी जा रही है और हँसी के ख़त्म होने की जगह पर सां लेने को किस ख़ूबसूरती से उस हँसी का ही अंग बनाया है इन गायिकाओं नें। शक्ति सामंत निर्देशित इस फ़िल्म में यह गीत मधुबाला और मीनू मुमताज़ पर फ़िल्माया गया है। तो लीजिए, अब आप इस गीत का आनंद लीजिये, और मुझे भी यह गीत बहुत पसंद है।



क्या आप जानते हैं...
कि 'इंसान जाग उठा' उस दौर की फ़िल्म थी जब लता जी सचिन देव बर्मन के लिये नहीं गा रहीं थीं। लता की कमी सी. रामचन्द्र जैसे स्थापित संगीतकार को भले हिला दिया हो, लेकिन बर्मन दादा लता के बिना भी इस दौर में उतने ही कामयाब बने रहे।

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. हर १० अंकों की शृंखला का एक विजेता होगा, और जो १००० वें एपिसोड तक सबसे अधिक श्रृंखलाओं में विजय हासिल करेगा वो ही अंतिम महा विजेता माना जायेगा. और हाँ इस बार इस महाविजेता का पुरस्कार नकद राशि में होगा ....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली 01/शृंखला 16
गीत का ये हिस्सा सुनें-


अतिरिक्त सूत्र - एक बेहद मधुर गीत.

सवाल १ - गीतकार बताएं - ३ अंक
सवाल २ - संगीतकार कौन हैं - २ अंक
सवाल ३ - गायिका का नाम बताएं - १ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
अनजाना और अमित जी ने फिर एक बार शानदार शुरुआत की है. हिन्दुस्तानी जी और प्रतीक जी को भी बधाई

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी



इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

6 श्रोताओं का कहना है :

Anjaana का कहना है कि -

Kapil Kumar

अमित तिवारी का कहना है कि -

गीतकार-गुलज़ार

Prateek Aggarwal का कहना है कि -

Kanu Roy

हिन्दुस्तानी का कहना है कि -

Music: Kanu Roy

Deep Chandra का कहना है कि -

Geeta Datt

शरद तैलंग का कहना है कि -
This comment has been removed by the author.

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन