Tuesday, November 24, 2009

सखी री मेरा मन नाचे....जब मीना कुमारी के अंदाज़ को मिला गीता दत्त की आवाज़ का साथ



ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 272

गीता दत्त के गाए गीतों की ख़ास शृंखला 'गीतांजली' की दूसरी कड़ी में आप सभी का हार्दिक स्वागत है। इस शृंखला के तहत आप पराग सांकला जी के चुने गीता जी के गाए दस ऐसे गानें सुन रहे हैं इन दिनों जो दस अलग अलग अभिनेत्रियों पर फ़िल्माए गए हैं। कल पहली कड़ी में नरगिस पर फ़िल्माया हुआ 'जोगन' फ़िल्म से एक मीरा भजन आपने सुना, आज की अभिनेत्री हैं मीना कुमारी। इससे पहले की हम उस गीत का ज़िक्र करें जो आज हम आप को सुनवा रहे हैं, आइए पहले कुछ बातें हो जाए मीना जी के बारे में। महजबीन के नाम से जन्मी मीना कुमारी भारतीय सिनेमा की 'लीजेन्डरी ट्रैजेडी क्वीन' रहीं हैं जो आज भी लोगों के दिलों में बसती हैं। अपनी तमाम फ़िल्मों में भावुक और मर्मस्पर्शी अभिनय की वजह से उनके द्वारा निभाया हुआ हर किरदार जीवंत हो उठता था। अभिनय के साथ साथ वो एक लाजवाब शायरा भी थीं और अपने एकाकी और दुख भरे दिनों में उन्होने एक से एक बेहतरीन ग़ज़लें लिखी हैं। उन्होने अपनी आवाज़ में अपनी शायरी का एक ऐल्बम भी रिकार्ड करवाया था जो उनके जीवन का एक सपना था। १९३९ से लेकर मृत्यु पर्यन्त, यानी कि १९७२ तक उन्होने लगभग १०० फ़िल्मों में अभिनय किया। उनके फ़िल्मी करीयर की शुरुआत पौराणिक फ़िल्मों से हुई जैसे कि 'हनुमान पाताल विजय', 'श्री गणेश महिमा' वगेरह। १९५० की फ़िल्म 'सनम' में वो सुरैय्या के साथ सह-नायिका के चरित्र में नज़र आईं। १९५२ में 'बैजु बावरा' की कामयाबी के बाद उन्होने फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा। उनके अभिनय से सजी 'बहू बेग़म', 'चित्रलेखा', 'फूल और पत्थर', 'काजल', 'पाक़ीज़ा' और न जाने कितनी ऐसी यादगार फ़िल्में हैं जिन्हे मीना जी के अभिनय ने चार चाँद लगा दिए हैं। ख़ैर, अब हम आते हैं आज के गीत पर। जैसा कि हमने कहा कि शुरु शुरु में मीना कुमारी ने कई पौराणिक फ़िल्मों में अभिनय किया था। तो क्यों ना गीता जी की आवाज़ में एक ऐसी ही फ़िल्म का गीत सुना जाए। पराग जी के प्रयास से हम आप तक पहुँचा रहे हैं गीता रॉय की आवाज़ में फ़िल्म 'श्री गणेश महिमा' का एक बड़ा ही प्यारा सा गीत जो मीना कुमारी पर फ़िल्माया गया था, और जिसके बोल हैं "सखी री मेरा मन नाचे, मेरा तन नाचे, नस नस में छाया है प्यार"।

जिन फ़िल्मों में गीता रॉय (दत्त) ने मीना कुमारी का पार्श्वगायन किया था, उनके नाम हैं - वीर घटोतकच ('४९), श्री गणेश महिमा ('५०), मग़रूर ('५०), हमारा घर ('५०), लक्ष्मी नारायण ('५१), 'हनुमान पाताल विजय ('५१), तमाशा ('५२), परिनीता ('५३), बादबान ('५४), सवेरा ('५८), शरारत ('५९) और साहिब बीवी और ग़ुलाम ('६२)। श्री गणेश महिमा 'बसंत पिक्चर्स' की फ़िल्म थी जिसका निर्देशन किया था होमी वाडिया ने। मीना कुमारी और महिपाल अभिनीत इस फ़िल्म में संगीत दिया था पौराणिक और ऐतिहासिक फ़िल्मों में संगीत देने के लिए मशहूर संगीतकार एस. एन. त्रिपाठी, जो इस फ़िल्म में कई और फ़िल्मों की तरह एक चरित्र अभिनेता की हैसीयत से भी नज़र आए। इस फ़िल्म में गानें लिखे अंजुम जयपुरी ने। अंजुम साहब भी ज़्यादातर पौराणिक, ऐतिहासिक और स्टंट फ़िल्मों के ही गानें लिखे हैं। भारतीय शास्त्रीय संगीत और साज़ों के इस्तेमाल के लिए त्रिपाठी जी जाने जाते हैं। अपने संगीत के माध्यम से वो एक पूरा का पूरा युग लोगों की आँखों के सामने प्रस्तुत कर देते थे। जिस फ़िल्म में जिस पीरीयड की कहानी होती, उसमे संगीत भी वैसा ही होता। गीता जी की आवाज़ में यह गीत अत्यंत कर्णप्रिय है और इस ख़ुशमिज़ाज गीत को उन्होने उसी ख़ुशमिज़ाज अंदाज़ में गाया है, जिसे सुन कर सुननेवाला भी ख़ुश हो जाए। तो लीजिए प्रस्तुत है मीना कुमारी के होंठों पर सजी गीता रॉय की आवाज़, फ़िल्म 'श्री गणेश महिमा' का यह सुरीला गीत।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा अगला (अब तक के चार गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी (दो बार), स्वप्न मंजूषा जी, पूर्वी एस जी और पराग सांकला जी)"गेस्ट होस्ट".अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. यहाँ गीता दत्त का प्लेबैक है कल्पना कार्तिक के लिए.
२. इस फिल्म में इस मशहूर निर्देशक ने एक अतिथि भूमिका भी की थी.
३. मुखड़े की पहली पंक्ति में शब्द है -"पिया".इस पहेली को बूझने के आपको मिलेंगें २ की बजाय ३ अंक. यानी कि एक अंक का बोनस...पराग जी इस प्रतियोगिता में हिस्सा नहीं ले सकेंगें.

पिछली पहेली का परिणाम -
वाह वाह इंदु जी, कैच जरा मुश्किल था पर आपने दूसरी कोशिश में सही जवाब लपक ही लिया....और बड़े बड़े धुरंधर सर खपाते रह गए....बधाई आपको...६ अंक हुए आपके. दिलीप जी और पाबला जी सर खपाई के लिए आपको भी बधाई :). राज जी, जब भी आपकी टिपण्णी आती है मन खुश हो जाता है, लगता है जैसे कहीं न कहीं हमारी मेहनत सार्थक हो रही है. साहिल भाई कहाँ थे इतने दिनों...श्याम जी और निर्मला जी, धन्येवाद...

खोज - पराग सांकला
आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

13 श्रोताओं का कहना है :

indu का कहना है कि -

aaj ki raat piya dil na todo

indu का कहना है कि -

film BAAZI ,dev aanand jinhone isme pramukh bhumika bhi ki thi

बी एस पाबला का कहना है कि -

भई हम घात लगा कर बैठे नहीं रह सकते :-)

इंदु जी को बधाई

मिलते हैं ब्रेक के बाद

बी एस पाबला

indu का कहना है कि -

bhai...!
film chitralekha ka yah geet geeta duttji ne nhi lataji ne gaya tha -''skhi ri mera man uljhe tan dole ,ab chain pde tb hi jb unse milan hole''
sangeetkar 'roshan (lal) geetkar 'sahir ludhiyanavi the
meena kumari,bela bose ke sath hi zeb rahman ek khoobsurat bhumika me thi
.....pata lagaaiye ji

शरद तैलंग का कहना है कि -

इन्दु जी बधाई !

indu का कहना है कि -

oh my god ,gdbd ho gai , 'sakhi ri mera man nache;, geeta duttji ne hi gaya tha
'sakhi ri mea mn uljhe tn dole ' lataji ne gaya tha
sorry...
sorry bol to diya bchchi ki jaan loge kya

Parag का कहना है कि -

आवाज़ के पृष्ठ का लिंक कहता है की गाना फिल्म चित्रलेखा का "सखी री मेरा मन उलझे तन डोले " है, मगर असल गीत तो "सखी री मेरा मन नाचे नस नस में छाया है प्यार है"
http://podcast.hindyugm.com/2009/11/sakhi-re-mera-mann-uljhe-tan-dole.html

बहुत ही कर्णप्रिय और सुरीला गीत है.
धन्यवाद
पराग

RAJ SINH का कहना है कि -

SUJOY DA ,

'MEHNAT SAARTHAK '........... ? KYA KAH RAHE HAIN AAP ?

SACHCHAYEE YEH HAI KI SADHE DAS GHANTE KE FARK KE KARAN PADDHNE SUNANE ME LATE HO JATA HOON PAR ,AKSAR SUBAH UTHKAR ,YA JAB BHEE MAIL KHOLTA HOON , SAB CHHOD PAHLE AAWAZ HEE PADHATA SUNTA HOON .

KAREEB EK SAAL PAHALE JAB SE ' VATS' SHAILESH KE SAMPARK ME AAYA ,AUR HIND YUGM SE JUDA , AAWAZ JEEVAN KA ANG HO GAYA HAI .AB TO ISKE BINA JEENE KEE KALPANA BHEE NAHEEN KAR PAOONGA .

JINDAGEE KEE TAMAM AAPA DHAPEE KE BEECH BHEE , KAM SE KAM , ' AAWAZ ' TO POORE DIN SE LADNE KEE TAKAT AUR URJA DE DETEE HAI .MAN KHUSH KAR DETEE HAI .MERE LIYE YAH SITE NAHEEN 'NASHA ' HAI .UMANG HAI .

KHASH KAR PURANE DINON ME LAUT KAR ,UN YADON ME KHO JANA ,KYA HOTA HAI AGAR KOYEE JANE TO .

TO.....?

'AAWAZ' AISE HEE BULAND RAKHEN .

@ PARAG JEE ,MAIN AAPKEE SITE KA FAN HEE NAHEEN ,MAMATV BHEE PALE HUYE HOON .

BACHPAN ME KAYEE BAR GEETA JEE SE SNEH PAYA ,GURUDATT JEE SE BHEE .
MERE CHACHA 'RAM SINGH 'KE YAHAAN JO AAPAS ME PRAGADH MITR THE .

BHAYEE 8 WORD PER MINAT TYPE KAR PATA HOON AUR NAAGAREE CORRECTION AUR BHEE MUSHKIL , TO GAR MEREE TIPPANEE NA MILE TO KABHEE BHEE GAIR HAZIR NA SAMJHA JAYE , YAH VINATEE HAI .

'AAWAAZ ' KE ALAWA 'TANHA' JEE KA BHEE RASIYA HOON . HAAN US MEHFIL KA POORA MAZA HANESHA LETA HOON ,PAR TIPPANEE KABHEE KABHAR ,KYONKI APNEE AUKAAT NAHEEN SAMAJHTA ,JAHAAN EK SE EK 'PARKHEE HON . HAAN SAB PADH SUN, APNE GYAN ME VISTAR AUR TRIPTI JAROOR PATA HOON .

VAISE AABHAR TO POOREE 'HIND YUGM ' TEAM KA NAHEEN CHUKA PAAOONGA !

PS: AAJ NAGREE LIKHNE KEE SUVIDHA NAHEEN HAI ATAH ROMAN LIKHNE KEE GUSTAKHEE KEE MAFEE MILE . AUR 'VATS' SHAILESH ISE NAGREE ME CHAPWA DO ,YE AADESH DE SAKTA HOON ? :):).

RAJ SINH का कहना है कि -

AUR PARAG JEE ,
IS GEET KO PAHLEE BAR SUNA .AAP SAMAJH SAKTE HAIN MERA AANAND .............!!

दिलीप कवठेकर का कहना है कि -

अभी ये गाना सुन रहा हूं- ज़िंदगी , कैसी पहेली है ये हाय- कभी तो हसाये, कभी ये रुलाये.

इस बार कोशिश तो की ज़रूर थी, मगर नहीं जमा.

अगली बार सही...

Parag का कहना है कि -

Raaj ji, is sundar aur sureele geet ka video bhi yahan par hai

http://www.youtube.com/watch?v=TwDpTO7mQ1I

Abhaaree
Parag

श्याम सखा 'श्याम' का कहना है कि -

खूब सूरत

Parag का कहना है कि -

गीता जी के भक्तोंकी तरफसे हिंद युग्म , आवाज़ तथा सजीव जी और सुजॉय जी को लक्ष लक्ष धन्यवाद. गीताजी के गाये १० गीत और उनसे जुडी बातें संगीत प्रेमियोंतक पहुंचाने का आपका प्रयास अत्यंत सराहनीय है.
भविष्य में भी संगीत प्रेमी इन सारे आलेखोंको नीचे दी गए वेबपेज पर एक साथ पढ़ सकते है.

http://www.geetadutt.com/blog/?cat=30

हमें आशा है की आप सभीने इन दुर्लभ और सुरीले गीतोंसे आनंद प्राप्त किया होगा. "रविवार सुबह की कॉफ़ी" श्रुंखला में गीता जी के गाये हुए ऐसे ही सुरीले गीत नियमित रूप से सुनाने की कोशीश रहेगी. अंतर्जाल पर देवनागरी में संगीत प्रेमियोंको रिजाने वाले आवाज़ को और भी शक्ती और सभीका साथ मिले यही प्रभूसे विनती है.

गीता दत्त डोट कोम की तरफ से
पराग सांकला

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन