Wednesday, January 13, 2010

एक मीठी सी चुभन...सहमे सहमे प्यार के स्वर लता के, संगीत से सँवारे जयदेव ने



ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 313/2010/13

'स्वरांजली' में आज हम उस संगीतकार को श्रद्धांजली अर्पित कर रहे हैं जिनका ज़िक्र हमने इसी शृंखला की पहली कड़ी में किया था। जी हाँ, जयदेव जी। उनका स्वरबद्ध गीत यशुदास जी के जन्मदिन पर आप ने सुना था। जयदेव जी का देहावसान हुआ था ६ जनवरी के दिन। आज १३ जनवरी हम दे रहे हैं उन्हे अपनी श्रद्धांजली। जयदेव जी के बारे मे क्या कहें, इतने सुरीले थे वो कि उनका हर गीत उत्कृष्ट हुआ करता था। उनका कोई भी गीत ऐसा नहीं जो कर्णप्रिय ना हो। जयदेव जी की धुनों के लिए उत्कृष्टता से बढ़कर कोई शब्द नहीं है, ऐसा विविध भारती के यूनुस ख़ान ने भी कहा था जयदेव जी पर 'आज के फ़नकार' कार्यक्रम प्रस्तुत करते हुए। चाहे शास्त्रीय संगीत हो या लोक संगीत, जयदेव के गीतों में कुछ भी अनावश्यक नहीं लगता। गीत के अनुरूप धुन की पूर्णता का अहसास कराता है उनका संगीत, ना कुछ कम ना कुछ ज़्यादा। विविध भारती के ही एक अन्य कार्यक्रम में वरिष्ठ उद्‍घोषक कमल शर्मा ने कहा था कि "धुन रचने से पहले जयदेव गीतकार की रचना को सुनते थे, उसकी वज़न को परखते थे। उनका विचार था कि शब्द पहले आने चाहिए, गीत का अर्थ गड़बड़ाना नहीं चाहिए। फिर उसके बाद वो अपने असरदार संगीत से गीत को पूर्णता तक पहुँचाते थे।" जयदेव जी अपने गीतों में स्थान, काल और पात्र का पूरा पूरा ख़याल रखते थे। तभी तो राजस्थान की पृष्ठभूमि पर बनी फ़िल्म 'रेशमा और शेरा' के संगीत में उन्होने राजस्थान का रंग भरा। मांड और ख़ास राजस्थानी लोक संगीत और शास्त्रीय संगीत का ऐसा ब्लेंडिंग् किया कि इस फ़िल्म के गानें अमरत्व को प्राप्त हो गए। ख़ास कर लता जी के गाए दो गानें, जिनमें से एक ("तू चंदा मैं चांदनी") हम आपको 'दस राग दस रंग' शृंखला के अन्तर्गत सुनवा चुके हैं। और दूसरा गीत है "एक मीठी सी चुभन, एक हल्की सी अगन मैं आज पवन में पाऊँ", जिसे आज हम लेकर आए हैं।

'रेशमा और शेरा' १९७१ की फ़िल्म थी जिसका निर्माण किया था सुनिल दत्त ने। सुनिल दत्त साहब ने फ़िल्म का ना केवल निर्माण किया बल्कि फ़िल्म को निर्देशित भी किया और पर्दे पर 'शेरा' की भूमिका में छा भी गए। 'रेशमा' की भूमिका मे थीं वहीदा रहमान। यह एक मल्टि-स्टारर फ़िल्म थी, और अन्य महत्वपूर्ण किरदारों में शामिल थे राखी, विनोद खन्ना, और अमिताभ बच्चन। इस फ़िल्म में संजु बाबा, यानी कि हमारे संजय दत्त साहब बतौर बाल कलाकार एक क़व्वाली में नज़र आए थे। जैसा कि फ़िल्म के शीर्षक से प्रतीत होता है कि यह रेशमा और शेरा की प्रेम कहानी है, लेकिन दोनों के परिवारों में ज़बरदस्त दुश्मनी है, जिसे अंग्रेज़ी में feudal conflict कह सकते हैं। ऐसे में कई क्रूर हादसों से गुज़रती हुई एस. अली. रज़ा की कहानी आगे बढ़ती है। इस फ़िल्म ने समीक्षकों की बहुत तारीफ़ें बटोरी और कई पुरस्कारों से फ़िल्म को सम्मानित भी किया गया। १९७२ में बर्लिन फ़िल्म महोत्सव में इस फ़िल्म का नामांकन हुआ 'गोल्डन बर्लिन बीयर' पुरस्कार के लिए। इस फ़िल्म के मधुर संगीत के लिए जयदेव जी को राष्ट्रीय पुरस्कार (सिल्वर लोटस) से सम्मानित किया गया। फ़िल्म में गानें लिखे कवि नीरज, बालकवि बैरागी, राजेन्द्र कृष्ण और उद्धव कुमार ने। आज का गीत उद्धव कुमार का लिखा हुआ है। ये बड़े ही कमचर्चित गीतकार रहे, जिन्होने इस फ़िल्म के अलावा संगीतकार रोशन के लिए 'हमलोग' और 'शीशम' जैसी फ़िल्मों में गीत लिखे हैं। दोस्तो, विविध भारती के 'संगीत सरिता' में जब अनिल बिस्वास जी तशरीफ़ लाए थे, उन्होने कई संगीतकारों की रचनाओं का ज़िक्र किया था जो उनके दिल के बेहद क़रीब थे। जयदेव जी के जिन तीन गीतों का उन्होने उल्लेख किया था वे थे फ़िल्म 'गमन' के दो गीत "सीने में जलन" और "आपकी याद आती रही रात भर", तथा तीसरा गीत था "एक मीठी सी चुभन"। इस गीत को बजाते हुए उन्होने इस तरह से कहा था कि "मैं जयदेव का वही चीज़ सुनाना चाहता हूँ जिसने मेरे दिल में एक चुभन डाल दिया है, समझ गए ना?" चलिए, जयदेव जी की इस मीठी चुभन का अनुभव हम भी करते हैं लता जी की आवाज़ में।



चलिए अब बूझिये ये पहेली, और हमें बताईये कि कौन सा है ओल्ड इस गोल्ड का अगला गीत. हम रोज आपको देंगें ४ पंक्तियाँ और हर पंक्ति में कोई एक शब्द होगा जो होगा आपका सूत्र. यानी कुल चार शब्द आपको मिलेंगें जो अगले गीत के किसी एक अंतरे में इस्तेमाल हुए होंगें, जो शब्द बोल्ड दिख रहे हैं वो आपके सूत्र हैं बाकी शब्द बची हुई पंक्तियों में से चुनकर आपने पहेली सुलझानी है, और बूझना है वो अगला गीत. तो लीजिए ये रही आज की पंक्तियाँ-

वो परी थी आसमानी कोई,
जिसके होने सा था चमन गुलज़ार,
अब तो बस फिजा में गूंजती है कोई याद,
उजड़ी महफ़िलों को क्यों रोये दिले नाशाद...

अतिरिक्त सूत्र - १४ जनवरी १९९१ में इस संगीतकार ने अंतिम सांसे ली थी

पिछली पहेली का परिणाम-
अरे आप गलत कैसे हो सकती हैं इंदु जी, बिलकुल सही जवाब और इस बार मिलते हैं २ अंक भी बधाई

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी
पहेली रचना -सजीव सारथी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

6 श्रोताओं का कहना है :

indu puri का कहना है कि -

जाग दिल-ए-दीवाना रुत जागी वसले यार की

indu puri का कहना है कि -

फिल्म ऊंचे लोग( 1965फ़िरोज़ खां ,अशोक कुमार
सिंगर रफ़ी जी
जाग दिल-ए-दीवाना रुत जागी वसले यार की,
बसी हुई ज़ुल्फ़ में आई है सबा प्यार की .........
एक परी कोई शाद सी नाशाद सी
बैठी हुई शबनम में तेरी याद की
भीग रही होगी कहीं कली सी गुलज़ार की .....
यही नही इस फिल्म के सभी गाने बड़े प्यारे हैं
१ आजा रे मेरे प्यार के राही रह निहारूं बड़ी देर से
२ हाय रे तेरे चंचल नैनवा कुछ बात करे ,रुक जाये

AVADH का कहना है कि -

बधाई इन्दुजी,
सचमुच "ऊंचे लोग" का संगीत बहुत ही मधुर था.खास तौर से इस गीत का तो जवाब ही नहीं. मेरा भी पसंदीदा गीत है.लेकिन आपने संगीतकार का उल्लेख तो किया ही नहीं. अगर मुझे सही याद आ रहा है तो शायद चित्रगुप्त जी थे.
अवध लाल

AVADH का कहना है कि -

अरे फिल्म के कलाकारों के नाम बताते समय एक खास नाम तो गोल हो गया. जी हाँ राज कुमार जी ने एक पुलिस ऑफिसर की भूमिका निभाई थी जो अपने कर्त्तव्य के निर्वाह हेतु अपने सगे भाई को भी सजा दिलाने के लिए कटिबद्ध था चाहे उसे अपने फौजी पिता के विरुद्ध भी क्यों न क़दम उठाना पड़े.
अवध लाल

दिलीप कवठेकर का कहना है कि -

प्रस्तुत गीत जिस भी राग में बनाया है, जयदेव जी के पसंदीदा रागों में से अग्रणी है. धन्यवाद इस गीत को सुनवाने के लिये..

निर्मला कपिला का कहना है कि -

वाह लाजवाब प्रस्तुति धन्यवाद्

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन