Saturday, April 10, 2010

रबीन्द्र नाथ ठाकुर की कहानी "काबुलीवाला"



रबीन्द्र नाथ ठाकुर की कहानी "काबुलीवाला"
सुनो कहानी: रबीन्द्र नाथ ठाकुर की "काबुलीवाला"
'सुनो कहानी' इस स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में हिंदी साहित्यकार हरिशंकर परसाई की हृदयस्पर्शी कहानी "चार बेटे" का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं रबीन्द्र नाथ ठाकुर की एक कहानी "काबुलीवाला", जिसको स्वर दिया है नीलम मिश्रा ने।

कहानी का कुल प्रसारण समय 6 मिनट 54 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं हमसे संपर्क करें। अधिक जानकारी के लिए कृपया यहाँ देखें।



पक्षी समझते हैं कि मछलियों को पानी से ऊपर उठाकर वे उनपर उपकार करते हैं।
~ रबीन्द्र नाथ ठाकुर (1861-1941)

हर शनिवार को आवाज़ पर सुनें एक नयी कहानी

आकाश में हाथी सूँड से पानी फेंकता है, इसी से वर्षा होती है।
(रबीन्द्र नाथ ठाकुर की "काबुलीवाला" से एक अंश)

नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)


यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
VBR MP3
#68th Story, Kabuliwala: Rabindra Nath Tagore/Hindi Audio Book/2010/13. Voice: Neelam Mishra

फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

4 श्रोताओं का कहना है :

सजीव सारथी का कहना है कि -

waah a classic remembered nicely by neelam ji in her pure and inncent voice

indu puri का कहना है कि -

बचपन में ये फिल्म भी देखि और कोर्स में पढ़ी भी .
आज मैं टीचर हूँ बरसों से इस कहानी को बच्चों को पढा रही हूँ .
तब भी और आज इतना सालों बाद भी कभी इस कहानी को एक बार में पूरा नही पढा पाई .
आवाज भर्रा जाती है और आंसू..???
तब भी बह निकलते थे आज भी अपना रोल प्ले करना नही भूलते.
इस कहानी सुना और एक बार फिर इंदु बेहद भावुक हो गई.
सब को ...प्यार और थेंक्स .
नीलम इसे और भी भावपूर्ण अभिव्यक्ति दे सकती थी तुम .वैसे ये प्रयास भी भला लगा .

neelam का कहना है कि -

इंदु जी ,
सही तरीके से मिला मार्ग दर्शन हमेशा कुछ न कुछ अच्छा ही करने का हौसला देते हैं ,हम इस कहानी को दुबारा रिकॉर्ड करेंगे हम खुद समझ रहे हैं कि इस कहानी के साथ न्याय नहीं हुआ है .आपका मार्ग दर्शन सार्थक हुआ इंदु दी.

ρяєєтι का कहना है कि -

Accha pryaas.... MAlak ko sunaungi ab yeh...

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन