Saturday, June 12, 2010

क्या क्या कहूँ रे कान्हा...पी सुशीला और रमेश नायडू ने रचा ये दुर्लभ गीत



ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 415/2010/115

'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर इन दिनों आप सुन रहे हैं गुज़रे ज़माने के कुछ भूले बिसरे नग़में 'दुर्लभ दस' लघु शृंखला के अन्तर्गत। कल इसमें हमने आपको सुनवाया था दक्षिण की सुप्रसिद्ध गायिका एस. जानकी की आवाज़ में एक बड़ा ही मीठा सा गीत। जब दक्षिण की गायिकाओं का ज़िक्र आता है, तो एस. जानकी के साथ साथ एक और नाम का ज़िक्र करना आवश्यक हो जाता है। और वो नाम है पी. सुशीला। दक्षिण में तो सुना है कि इन दोनों गायिकाओं के चाहनेवाले बहस में पड़ जाते हैं कि इन दोनों में कौन बेहतर हैं। ठीक वैसे ही जैसे कि हिंदी सिने संगीत जगत में लता और आशा के चाहनेवालों में होती है। तो इसलिए हमने सोचा कि क्यों ना एस. जानकी के बाद एक गीत पी. सुशीला जी की आवाज़ में भी सुन लिया जाए। पी. सुशीला की आवाज़ में जिस दुर्लभ गीत को हमने खोज निकाला है वह गीत है फ़िल्म 'पिया मिलन' का, जिसके बोल हैं "क्या क्या कहूँ रे कान्हा, तू ने चुराया दिल को"। इस गीत को सुनते हुए आपको दक्षिण भारत की याद ज़रूर आएगी। गीत का संगीत दक्षिणी अंदाज़ में तैयार किया गया है, साज़ भी वहीं के हैं, और इसके लिए श्रेय जाता है संगीतकार रमेश नायडू को। दरअसल यह दक्षिण की ही फ़िल्म थी जो बनी थी सन् १९५८ में और जिसका निर्देशन किया था टी. आर. रघुनाथ ने। फ़िल्म की नायिका थीं वैजयंतीमाला।

दोस्तों, आज हम आपको जानकारी देंगे संगीतकार रमेश नायडू के बारे में। रमेश नायडू का जन्म सन् १९३३ में हुआ था आंध्रप्रदेश के कोंडापल्ली में जो कृष्णा ज़िले में स्थित है। उनका पूरा नाम था पसुपुलेटी रमेश नायडू। उनका मुख्य योगदान ७० और ८० के दशकों के तेलुगू फ़िल्मों में रहा है। उनके रचे संगीत में फ़िल्म 'मेघ संदेशम' को उनकी सर्वोत्तम कृति मानी जाती है जिसके लिए उन्हे १९८३ में राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। बहुत ही कम उम्र में वो घर से भाग गए थे और एक साज़ों की दुकान पर सहायक के रूप में काम करने लगे। वहीं पर उन्होने कई साज़ बजाने सीखे और वहीं पर उन्हे हिंदी और मराठी के कई संगीतकारों से मिलने के सुयोग नसीब हुए। केवल १४ वर्ष की उम्र में उन्हे मराठी फ़िल्म 'बंदवल पहिजा' में संगीत देने का मौका मिला। कृष्णावेणी ने उन्हे जिस तेलुगू फ़िल्म में पहला मौका दिलवाया, वह फ़िल्म थी 'दाम्पत्यम'। रमेश नायडू फिर बम्बई चले गए और फिर कलकत्ते का रुख़ किया। एक बंगाली लड़की से विवाह के पश्चात्‍ उन्होने १० साल तक बंगला, नेपाली और ओड़िया फ़िल्मों में संगीत देते रहे और १९७२ में वो लौटे तेलुगू फ़िल्म जगत में फ़िल्म 'अम्मा माता' के साथ। हिंदी फ़िल्म संगीत जगत में रमेश नायडू बहुत ज़्यादा सक्रीय नहीं हो सके। उनके संगीत से सजी हिंदी फ़िल्में हैं - हैमलेट (१९५४), पिया मिलन (१९५८), जय सिंह (१९५९), नर्तकी चित्रा (१९६५), गंगा भवानी (१९७९), आज़ादी की ओर (१९८६), हम भी कुछ कम नहीं (१९९१)। और दोस्तों, आपको यह भी बता दें कि फ़िल्म 'पिया मिलन' में पी. सुशीला के अलावा लता मंगेशकर, उषा मंगेशकर, ओम वर्मा और जगमोहन बक्शी ने भी गानें गाए। लता, उषा और जगमोहन की आवाज़ों में इस फ़िल्म का "ओ साथी रे तू आ भी जा" भी अपने आप में एक दुर्लभ गीत है जिसे हम फिर किसी दिन आपको सुनवाने की कोशिश करेंगे। तो आइए आज इस महफ़िल को महकाया जाए सुरीली गायिका पी. सुशीला की आवाज़ के साथ।



क्या आप जानते हैं...
कि गायिका डॊ. पी. सुशीला एक ट्रस्ट चलाती हैं जिसके ज़रिए वो ना केवल संगीत कलाकारों को पुरस्कृत करती हैं, बल्कि ज़रूरतमंद संगीत के छात्रों को आर्थिक मदद भी देती हैं।

पहेली प्रतियोगिता- अंदाज़ा लगाइए कि कल 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर कौन सा गीत बजेगा निम्नलिखित चार सूत्रों के ज़रिए। लेकिन याद रहे एक आई डी से आप केवल एक ही प्रश्न का उत्तर दे सकते हैं। जिस श्रोता के सबसे पहले १०० अंक पूरे होंगें उस के लिए होगा एक खास तोहफा :)

१. इस गीत के संगीतकार वो हैं जो किसी ज़माने में नौशाद साहब के सहायक हुआ करते थे और जिन्हे फ़िल्मी गीतों में मटके का प्रयोग प्रचलित करने का श्रेय दिया जाता है। संगीतकार का नाम बताएँ। २ अंक।

२. गीत के मुखड़े में शब्द है "ठिकाना"। गीत बताइए। ३ अंक।

३. इसी शीर्षक से एक और फ़िल्म भी बनी थी जिसमें लता और किशोर ने ख़य्याम साहब की धुन पर एक बेहद सुरीला युगल गीत गाया था जिसके मुखड़े में "ज़ुल्फ़" शब्द का प्रयोग हुआ है। फ़िल्म का नाम बताएँ। २ अंक।

४. इस गीत की गायिका वो हैं जिन्होने अनवर के साथ मिलकर राज कपूर की एक बेहद कामयाब फ़िल्म में एक गीत गाया था। गायिका का नाम बताएँ। २ अंक।

विशेष सूचना -'ओल्ड इज़ गोल्ड' शृंखला के बारे में आप अपने विचार, अपने सुझाव, अपनी फ़रमाइशें, अपनी शिकायतें, टिप्पणी के अलावा 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के नए ई-मेल पते oig@hindyugm.com पर ज़रूर लिख भेजें।

पिछली पहेली का परिणाम -

शरद जी स्वागत, आपका खाता २ अंकों के साथ खुल गया है, अवध जी १० अंकों पर हैं और पराग जी ३ अंकों पर. बधाई...अवध जी, दों अलग अलग शख्सियतें हैं....दुविधा में मत पडिये

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

4 श्रोताओं का कहना है :

indu puri goswami का कहना है कि -

नमस्तेजी सभी को.
जनगणना में ऐसे फंसे है न हम तो कि चाह कर भी समय नही दे प रहे.
पर सभी प्रतियोगियों को हमारी ओर से बधाई और शुभकामनायें .

AVADH का कहना है कि -

अगर मैं गलत नहीं हूँ तो संगीतकार होने चाहिए गुलाम मोहम्मद जो नौशाद साहेब के सहायक थे और इसी वजह से उनके इंतकाल के बाद नौशाद साहेब ने पाकीज़ा फिल्म का संगीत पूरा करने में मदद की थी.
अवध लाल

शरद तैलंग का कहना है कि -

गायिका : सुधा मलहोत्रा
पिछ्ली पहेली में मेरा खाता ३ अंकों से खुलना चाहिए न कि २ से ।

आचार्य जी का कहना है कि -

आईये जानें .... क्या हम मन के गुलाम हैं!

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन