Tuesday, June 15, 2010

"अखियाँ मिलाके अखियाँ" - गायिका सुरिंदर कौर की पुण्यतिथि पर 'आवाज़' की श्रद्धांजली



ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 418/2010/118

भी कल यानी १४ तारीख़ को पुण्यतिथि थी इस गायिका की. ५ साल पहले, आज ही के दिन, सन् २००६ को पंजाब की कोकिला सुरिंदर कौर की आवाज़ हमेशा के लिए ख़ामोश हो गई थी। गायिका सुरिंदर कौर के गाए अनगिनत पंजाबी लोक गीतों को पंजाबी संगीत प्रेमी आज भी बड़े चाव से सुनते हैं और उनको याद करते हैं। सन् १९४७-४८ से लेकर १९५२-५३ के मध्य उन्होने हिंदी फ़िल्मों में पार्श्व गायन करके काफ़ी ख्याति प्राप्त की थी। ४० के दशक का वह ज़माना पंजाबी गायिकाओं का ज़माना था। ज़ोहराबाई, नूरजहाँ, शम्शाद बेग़म जैसी वज़नदार आवाज़ों के बीच सुरिंदर कौर ने भी अपनी पारी शुरु की। लेकिन जल्द ही पतली आवाज़ वाली गायिकाओं का दौर शुरु हो गया और ५० के दशक के शुरुआती सालों से ही इन वज़नदार और नैज़ल गायिकाएँ पीछे होती चली गईं। आज 'दुर्लभ दस' शृंखला के अंतर्गत हम लेकर आए हैं सुरिंदर कौर की आवाज़ में १९४८ की फ़िल्म 'नदिया के पार' का गीत "अखियाँ मिलाके अखियाँ"। यह 'आवाज़' की तरफ़ से इस सुरीली गायिका को श्रद्धांजली है उनके स्मृति दिवस पर। दोस्तों, इस आलेख के लिए खोज बीन करते वक़्त मुझे पता चला कि सुरिंदर कौर जी की बेटी डॊली गुलेरिया, जो ख़ुद भी एक गायिका हैं, पंचकुला (हरियाणा) में रहती हैं। और संयोग की बात देखिए कि मैं भी आजकल पंचकुला में ही स्थित हूँ। दोस्तों, मैं ज़रूर कोशिश करूँगा कि डॊली जी का पता लगा सकूँ और संभव हुआ तो उनसे मिलकर सुरिंदर कौर जी के बारे में और क़रीब से जान सकूँ, उनके जीवन के अनछुए पहलुओं से आपका परिचय करवा सकूँ।

सुरिंदर कौर का जन्म २९ नवंबर १९२९ को लाहौर में एक सिख परिवार में हुआ था। लाहौर में रहते हुए उन्होने पढ़ाई के साथ साथ संगीत की शिक्षा भी ग्रहण की। कई दशक पूर्व अपनी बड़ी बहन प्रकाश कौर के साथ मिलकर गाया था एक पंजाबी युगल गीत - "मावां ते धीयां रल बैठियां नी माय", जो बहुत मशहूर हो गया था। भारत विभाजन के बाद उनका परिवार दिल्ली आ गया। अपनी बहन से मिलने जब वे बम्बई गईं तो संगीतकार ग़ुलाम हैदर, जो उनके परिवार को लाहौर के दिनों से जानते थे, ने उन्हे अपनी फ़िल्म 'शहीद' में गाने का निमंत्रण दिया। फ़िल्म 'शहीद' के प्रदर्शित होते ही उनके गीतों ने धूम मचा दी और वो एक गायिका के रूप में प्रसिद्ध हो गईं। 'शहीद' १९४८ की फ़िल्म थी। इस साल उन्होने जिन अन्य फ़िल्मों के लिए पार्श्वगायन किया, वे थीं - 'लाल दुपट्टा', 'नदिया के पार', 'नाव', एवं 'रूपरेखा'। तत्कालीन प्रतिष्ठित संगीतकार ज्ञान दत्त ने गायिका सुरिंदर कौर की आवाज़ से आकर्षित होकर उनसे अपनी दो फ़िल्मों 'लाल दुपट्टा' (५ गीत) और 'नाव' (६ गीत) में गीत गवाए। फ़िल्म 'रूपरेखा' में पं अमरनाथ ने भी उनके स्वर का उपयोग किया था "नैन मिलन की बात" गीत में, जिसमें सुरिंदर जी का साथ मुनव्वर सुल्ताना और विद्यानाथ सेठ ने भी दिया था। संगीतकार सी. रामचन्द्र ने सुरिंदर कौर से 'नदिया के पार' में एक एकल गीत गवाया था जिसे आज हम आपको सुनवा रहे हैं। दोस्तों, सुरिंदर कौर से संबंधित ये तमाम जानकारियाँ हमने बटोरी है हरमंदिर सिंह 'हमराज़' द्वारा प्रकाशित 'लिस्नर्स बुलेटिन' के अंक क्रमांक १३२ से जो कानपुर से प्रकाशित हुई थी अक्तुबर २००६ को। तो आइए कामिनी कौशल पर फ़िल्माया हुआ फ़िल्म 'नदिया के पार' का यह गीत सुनें और श्रद्धा सुमन अर्पित करें सुरिंदर कौर की संगीत साधना को।



क्या आप जानते हैं...
कि गायिका सुरिंदर कौर की बेटी डॊली गुलेरिया आज के दौर की एक मशहूर पंजाबी लोक गायिका हैं जिनके स्टेज शोज़ काफ़ी लोकप्रिय हुआ करते हैं।

पहेली प्रतियोगिता- अंदाज़ा लगाइए कि कल 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर कौन सा गीत बजेगा निम्नलिखित चार सूत्रों के ज़रिए। लेकिन याद रहे एक आई डी से आप केवल एक ही प्रश्न का उत्तर दे सकते हैं। जिस श्रोता के सबसे पहले १०० अंक पूरे होंगें उस के लिए होगा एक खास तोहफा :)

१. इस गीत की जो गायिका हैं उन्होने रफ़ी साहब के साथ १९७४ में एक फ़िल्म का शीर्षक गीत गाया था, जिस फ़िल्म के शीर्षक में चार शब्द हैं और जिसके दूसरे शब्द में किसी रंग का ज़िक्र है। गायिका का नाम बताएँ। ३ अंक।

२. इस फ़िल्म के शीर्षक में उस जंगली हीरो का नाम आता है जिन पर समय समय पर बहुत सी फ़िल्में बनीं हैं, और जिनमें से एक फ़िल्म में उनका किरदार हेमन्त बिरजे ने निभाया था। फ़िल्म का नाम बताएँ। २ अंक।

३. इस गीत के मुखड़े की पहली पंक्ति में ही दो ऐसे महत्वपूर्ण शब्द आते हैं जो शब्द आशा भोसले और दिलराज कौर की गाई राहुल देव बर्मन द्वारा स्वरबद्ध एक बेहद सुपर हिट फ़िल्म के सुपर हिट गीत में आते हैं। गीत के बोल बताएँ। ३ अंक।

४. इस गीत को लिखा है अज़ीज़ ग़ाज़ी ने। आप बताइए संगीतकार का नाम। ४ अंक।

विशेष सूचना -'ओल्ड इज़ गोल्ड' शृंखला के बारे में आप अपने विचार, अपने सुझाव, अपनी फ़रमाइशें, अपनी शिकायतें, टिप्पणी के अलावा 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के नए ई-मेल पते oig@hindyugm.com पर ज़रूर लिख भेजें।

पिछली पहेली का परिणाम -

वाह भाई मान गए आप तीनों को, इतने मुश्किल सवालों के जवाब दिए हैं कि क्या कहने....शरद जी, इंदु जी और अवध जी को बहुत बधाई

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

3 श्रोताओं का कहना है :

शरद तैलंग का कहना है कि -

प्रश्न (४) संगीतकार होने चाहिए : मोमिन

Jandunia का कहना है कि -

सार्थक पोस्ट

indli का कहना है कि -

नमस्ते,

आपका बलोग पढकर अच्चा लगा । आपके चिट्ठों को इंडलि में शामिल करने से अन्य कयी चिट्ठाकारों के सम्पर्क में आने की सम्भावना ज़्यादा हैं । एक बार इंडलि देखने से आपको भी यकीन हो जायेगा ।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन