Tuesday, August 23, 2011

सीमा सिंघल के कविता-संग्रह 'अर्पिता' का विमोचन अपने कर-कमलों द्वारा करें



सभी साहित्यप्रेमियों को जन्माष्टमी की बधाइयाँ!

आज हम इस अवसर पर हिन्द-युग्म प्रकाशन की नवीनतम पुस्तक 'अर्पिता' का ऑनलाइन विमोचन कर रहे हैं। यह पुस्तक युवा कवयित्री सीमा सिंघल का प्रथम काव्य-संग्रह है। चूँकि हिन्द-युग्म का यह मंच ज्यादा बोलने-सुनने और कम लिखने का है। इसलिए हम पुस्तक पर अधिक कलम न चलाकर, सर्वप्रथम तो आपको विमोचन का अवसर प्रदान करते हैं। उसके पश्चात अर्चना चावजी की आवाज़ में पुस्तक पर उनके विचार जानते हैं और उनकी आवाज़ में चुनिंदा कविताएँ सुनते हैं।

पहले यहाँ से फीटा काटकर विधिवत लोकार्पण करें।



अब नीचे के प्लेयर से अर्चना जी की आवाज़ में पुस्तक-चर्चा सुनें।


फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

8 श्रोताओं का कहना है :

सजीव सारथी का कहना है कि -

सीमा जी को बधाई

सुज्ञ का कहना है कि -

बहुत ही बधाई सीमाजी,

और ऑन-लाईन विमोचन का यह प्रयोग भी शानदार है।

मंगल-कामनाएं!!

संजय भास्कर का कहना है कि -

बहुत बहुत बधाई सीमा जी

रवीन्द्र प्रभात का कहना है कि -

बहुत बहुत बधाई सीमा जी !
अर्चना चाव जी की आवाज़ में सुन्दर प्रस्तुति ने पुस्तक पढ़ने हेतु आकर्षित किया है,अर्पिता को एक नया आयाम मिले,इन्हीं शुभकामनाओं के साथ -

Archana का कहना है कि -

सीमा जी को बधाई "अर्पिता" के विमोचन पर ...

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') का कहना है कि -

सीमा सिंघल जी को बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं...

राजेश उत्‍साही का कहना है कि -

इस नए प्रयोग के लिए बधाई। सीमा जी को भी बधाई।

अमित तिवारी का कहना है कि -

सीमा जी बहुत बहुत बधाई

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन