Wednesday, September 21, 2011

जागो रे जागो प्रभात आया...मन और जीवन के अंधेरों को प्रकाशित करता एक गीत



ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 749/2011/189

रागदारी संगीत में प्रचलित थाट प्रणाली पर परिचयात्मक श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ की नौवीं कड़ी में, मैं कृष्णमोहन मिश्र एक बार पुनः आपका स्वागत करता हूँ। आज बारी है थाट ‘तोड़ी’ से परिचय प्राप्त करने की। श्रृंखला की अभी तक की कड़ियों में हमने उत्तर भारतीय संगीत में प्रचलित थाट प्रणाली को रेखांकित करने का प्रयास किया है। आज की कड़ी में हम दक्षिण भारतीय संगीत में प्रचलित प्राचीन थाट व्यवस्था पर चर्चा करेंगे।

दक्षिण भारतीय संगीत पद्यति के विद्वान पण्डित व्यंकटमखी ने थाटों की संख्या निश्चित करने के लिए गणित को आधार बनाया और पूर्णरूप से गणना कर थाटों की कुल संख्या ७२ निर्धारित की। इनमें से उन्होने १९ व्यावहारिक थाटों का चयन किया। व्यंकटमखी की थाट संख्या को दक्षिण भारतीय संगीतज्ञों ने तो अपनाया, किन्तु उत्तर भारत के संगीत पर इसका विशेष प्रभाव नहीं हुआ। उत्तर भारतीय संगीत के विद्वान पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे ने रागों के वर्गीकरण के लिए १० थाट प्रणाली को अपनाया और रागों का वर्गीकरण किया, जो आज तक प्रचलित है। थाट का उद्देश्य मात्र राग के शुद्ध और विकृत स्वरों को चिन्हित करना है। चूँकि एक थाट के गठन के लिए सप्तक के सातों स्वरों का होना आवश्यक है, अतः यह भी आवश्यक है कि थाट सम्पूर्ण हो।

आइए आज आपका परिचय ‘तोड़ी’ थाट से कराते हैं। इस थाट में प्रयोग होने वाले स्वर हैं- सा, रे॒, ग॒, म॑, प, ध॒, नि अर्थात ऋषभ, गांधार और धैवत स्वर कोमल, मध्यम तीव्र तथा शेष स्वर शुद्ध प्रयोग किये जाते है। इस थाट का आश्रय राग ‘तोड़ी’ ही कहलाता है। तोड़ी के अलावा इस थाट का एक अन्य प्रमुख राग है- मुलतानी। राग ‘तोड़ी’ एक सम्पूर्ण राग है, जिसके आरोह में- सा, रे॒, ग॒, म॑प, ध॒, निसां स्वरों का तथा अवरोह में- सांनिध॒प, म॑ग, रे॒, सा स्वरों का प्रयोग होता है। इस राग का वादी स्वर धैवत और संवादी स्वर गांधार होता है तथा राग के गायन-वादन का समय दिन का दूसरा प्रहर माना जाता है।

आज की कड़ी में हम आपको राग तोड़ी पर आधारित एक मोहक गीत सुनवाएँगे, जिसके बोल हैं- ‘जागो रे जागो प्रभात आया...’। यह गीत हमने १९६४ में प्रदर्शित फिल्म ‘सन्त ज्ञानेश्वर’ से लिया है, जिसके संगीतकार लक्ष्मीकान्त-प्यारेलाल हैं। फिल्म ‘सन्त ज्ञानेश्वर’ इस संगीतकार जोड़ी की प्रारम्भिक फिल्मों में से एक थी। इस दौर में लक्ष्मीकान्त-प्यारेलाल ने राग आधारित कई अच्छे गीतों को संगीतबद्ध किया था। शास्त्रीयता को सुगम धुनों में ढालने की कला में कुशल इस संगीतकर जोड़ी ने फिल्म ‘सन्त ज्ञानेश्वर’ में राग शिवरंजिनी, भैरवी और तोड़ी रागों पर आधारित अच्छे गीतों की रचना की थी, इन्हीं में एक राग तोड़ी पर आधारित यह गीत भी सम्मिलित है। गायक मन्ना डे के स्वरों में यह गीत अधिक भावपूर्ण बन गया है। एकताल में निबद्ध इस गीत के गीतकार भरत व्यास हैं। आइए सुना जाये, राग ‘तोड़ी’ पर आधारित यह गीत-



और अब एक विशेष सूचना:
२८ सितंबर स्वरसाम्राज्ञी लता मंगेशकर का जनमदिवस है। पिछले दो सालों की तरह इस साल भी हम उन पर 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की एक शृंखला समर्पित करने जा रहे हैं। और इस बार हमने सोचा है कि इसमें हम आप ही की पसंद का कोई लता नंबर प्ले करेंगे। तो फिर देर किस बात की, जल्द से जल्द अपना फ़ेवरीट लता नंबर और लता जी के लिए उदगार और शुभकामनाएँ हमें oig@hindyugm.com के पते पर लिख भेजिये। प्रथम १० ईमेल भेजने वालों की फ़रमाइश उस शृंखला में पूरी की जाएगी।

इन तीन सूत्रों से पहचानिये अगला गीत -
१. स्वयं संगीतकार ने इसे स्वर दिया है.
२. फिल्मकार हैं बी आर चोपडा.
३. एक अंतरे का अंतिम शब्द है - "गली".

अब बताएं -
किस राग आधारित है गीत - ३ अंक
गीतकार का नाम बताएं - २ अंक
संगीतकार एवं गायक कौन हैं - २ अंक

सभी जवाब आ जाने की स्तिथि में भी जो श्रोता प्रस्तुत गीत पर अपने इनपुट्स रखेंगें उन्हें १ अंक दिया जायेगा, ताकि आने वाली कड़ियों के लिए उनके पास मौके सुरक्षित रहें. आप चाहें तो प्रस्तुत गीत से जुड़ा अपना कोई संस्मरण भी पेश कर सकते हैं.

पिछली पहेली का परिणाम-
आजकल अमित जी को काफी समय मिल जाता है, काश कि उन्हें कोई सही टक्कर दे...

खोज व आलेख- कृष्ण मोहन मिश्र



इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

3 श्रोताओं का कहना है :

Kshiti का कहना है कि -

9 thath to ho chuke. ab to bas ek hi thath bacha hai---bhairavi

अमित तिवारी का कहना है कि -

Geetkar: Majrooh Sultanpuri

क्षिती जी बधाई हो.आज आपने मैदान मार लिया है.कृष्ण मोहन जी इस समय मैं मीटिंग्स में रहता हूँ इसलिए चाहकर भी समय पर उपस्तिथ नहीं. हो पाता हों.

indu puri का कहना है कि -

क्षिति और अमित भैया मैदान मार गए जी.
अपने पास तो अब एक ही रास्ता बचा है कि ......बोल दूँ हेमंत कुमार साहब.
गलत हुआ तो भाग जाऊंगी .क्या करू?
ऐसिच हूँ मैं तो हा हा हा

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन