Saturday, November 21, 2009

तोते की कहानी- रबिन्द्र नाथ टैगोर



सुनो कहानी: रबीन्द्र नाथ ठाकुर की "तोते की कहानी"
'सुनो कहानी' इस स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में हिंदी साहित्यकार गजानन माधव मुक्तिबोध की हृदयस्पर्शी कहानी "पक्षी और दीमक" का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं रबीन्द्र नाथ ठाकुर की एक कहानी "तोते की कहानी", जिसको स्वर दिया है शरद तैलंग ने।

कहानी का कुल प्रसारण समय 8 मिनट 20 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं हमसे संपर्क करें। अधिक जानकारी के लिए कृपया यहाँ देखें।




पक्षी समझते हैं कि मछलियों को पानी से ऊपर उठाकर वे उनपर उपकार करते हैं।
~ रबीन्द्र नाथ ठाकुर (1861-1941)

हर शनिवार को आवाज़ पर सुनें एक नयी कहानी

सुनार बुलाया गया। वह सोने का पिंजरा तैयार करने में जुट गया।
(रबीन्द्र नाथ ठाकुर की "तोते की कहानी" से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)


यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
VBR MP3
#Fourty Seventh Story, Tote Ki Kahani: Rabindra Nath Tagore/Hindi Audio Book/2009/41. Voice: Sharad Tailang

फेसबुक-श्रोता यहाँ टिप्पणी करें
अन्य पाठक नीचे के लिंक से टिप्पणी करें-

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

7 श्रोताओं का कहना है :

Nirmla Kapila का कहना है कि -

प्लेयर चल नहीं रहा बाद मे देखती हूँ धन्यवाद्

सजीव सारथी का कहना है कि -

वाह बहतरीन कहानी....और तैलंग साहब आपका वाचन भी एक दम कमाल है....सबसे बड़ी बात रेकॉर्डिंग बेहद साफ़ है

शरद तैलंग का कहना है कि -

सजीव जी धन्यवाद !
कहानी का प्रसारण का प्रसारण समय १५ मिनट ४७ सैकंड नहीं है जैसा कि लिखा है प्लेयर में ८ मिनट १५ सैकंड ही आ रहा है ।

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

वाचन और रिकॉर्डिंग बहुत बढ़िया है

श्याम सखा 'श्याम' का कहना है कि -

कहानी,वाचन,रिकार्डिं सब के सब अत्युत्तम

Ankit sharma का कहना है कि -

बोहोत हि सुंदर कहानी ,वक्त्ता की वाणी मै उस पक्षी क पुरा दर्द बयान हो गया.बोहोत बोहोत धन्यवाद वक्ता जी को.

Chandralekha का कहना है कि -

भावपूर्ण सुंदर अभिव्यक्ति!!

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

संग्रहालय

25 नई सुरांगिनियाँ

ओल्ड इज़ गोल्ड शृंखला

महफ़िल-ए-ग़ज़लः नई शृंखला की शुरूआत

भेंट-मुलाक़ात-Interviews

संडे स्पेशल

ताजा कहानी-पॉडकास्ट

ताज़ा पॉडकास्ट कवि सम्मेलन